चंदौली : मुगलसराय से भाजपा की विधायक साधना सिंह द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री व बसपा सुप्रीमो मायावती पर की गई अभद्र टिप्पणी को लेकर गठबंधन के नेताओं द्वारा मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही करने की मांग पर प्रशासन ने क्लीन चिट दे दिया है।

प्रशासन ने मुकदमा नहीं दर्ज करने की बात कहते हुए, तहरीर देने वाले बसपा जोनल कोऑर्डिनेटर को सूचना मुहैया कराने की बात कही है।

यहां के जनपद के बबुरी थाना क्षेत्र के परानपुर गांव के 19 जनवरी को गृह मंत्री के पुत्र व भाजपा के प्रदेश महासचिव पंकज सिंह के कार्यक्रम किसान महाकुंभ अभियान के तहत स्वागत भाषण के दौरान साधना सिंह द्वारा बसपा सुप्रीमो के खिलाफ अभद्र टिप्पणी के मामले को लेकर सपा- बसपा के नेताओं द्वारा धरना प्रदर्शन कर बबुरी थाने में मुकदमा दर्ज कराने की मांग किया था।

Posted by Alam Jahangeer on Wednesday, January 23, 2019

इसके तहत पुलिस अधीक्षक द्वारा 2 दिन का समय मांगते हुए कार्रवाई करने का आश्वासन दिया था। पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने बताया कि संयुक्त निदेशक अभियोजन के परामर्श व भाषण की क्लिप का परीक्षण करने के बाद कोई भी मामला एससीएसटी का नही बनता है।

उन्होंने कहा कि यह मामला घटना विशेष और ब्यक्ति विशेष का नहीं है और जाति और समूह के बीच कोई अपमानित करने का भी नही है। इसलिए इस मामले में किसी प्रकार का अभियोजन नही बनाता है। इसलिए मुकदमा दर्ज नहीं किया जाएगा। यह मामला मानहानि की श्रेणी में आता है इसलिये संबंधित न्यायालय में जाकर अपना पक्ष रख सकते है।

इस मामले को लेकर सपा के पूर्व सांसद रामकिशुन व पूर्व सैदराजा विधायक मनोज सिंह डब्लू ने कहा है कि सत्ता के दबाव में विधायक पर मुकदमा नहीं दर्ज किया जा रहा है। यह लोकतंत्र के लिए अशोभनीय है। इस संबंध में आगे रणनीति बनाने के लिए गठबंधन के नेताओं से विचार-विमर्श करके निर्णय लिया जाएगा।