नई दिल्ली : विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी में चल रहे तीन दिवसीय प्रवासी सम्मेलन का औपचारिक शुभारंभ किया। बता दें कि इस सम्मेलन में 75 देशों के करीब तीन हजार प्रवासी मेहमान शामिल हो रहे हैं।

इन देशों के प्रवासी मेहमान हुए शामिल

इनमें मॉरीशस, त्रिनिडाड, फिजी, सऊदी अरब, कनाडा, यूएसए, यूके, मलेशिया, जर्मनी, फ्रांस समेत कई देशों के ज्यादातर प्रवासी मेहमान काशी पहुंच चुके हैं। इस बार सम्मेलन की थीम 'नए भारत के निर्माण में प्रवासी भारतीयों के रोल में है।

सुरक्षा के कड़ें इंतजाम

प्रवासी सम्मेलन के मद्देनजर प्रशासन ने आस- पास सिक्युरिटी के कड़े इंतजाम किए हैं। करीब 13 हजार अर्द्धसैनिक बलों के जवानों की तैनाती की गई है। इसके अलावा 400 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। टेंट सिटी से कार्यक्रम स्थल तक प्रवासियों के आवागमन की सुविधा को देखते हुए रिंग रोड एवं सिंधोरा मार्ग आम लोगों के लिए पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है।

ये हस्तियां करेंगी शिरकत

इस सम्मेलन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, मॉरीशस के पीएम प्रवींद जगन्नाथ्, नार्वे के सांसद हिमांशु गुलाटी, न्यूजीलैंड के सांसद कंवलजीत सिंह बख्शी, राज्यपाल राम नाईक, सीएम योगी आदित्यनाथ, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह, ब्रिटेन में हाउस ऑफ लार्ड्स के सदस्य लार्ड राजेन्दर पॉल लुंबा, अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ, हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर, उत्तरांचल के सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत, केन्द्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार, सूबे के उद्योग मंत्री सतीश महाना समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्री व केन्द्रीय मंत्री शामिल होंगे।