शिवपुरीः मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में एक किसान को तब बिजली कनेक्शन मिल पाया है जब उसने जिलाधिकारी के पैरों पर अपना सिर रख दिया। राज्य के सहकारिता मंत्री डा गोविंद सिंह ने नाराजगी जताते हुए इस प्रकरण से मुख्यमंत्री कमलनाथ को अवगत कराने की बात कही है।

शिवपुरी जिले के कोलारस तहसील अंतर्गत आने वाले रन्नौद इलाके के रहने वाले किसान अजीत जाटव ने ट्रांसफार्मर लगाकर बिजली कनेक्शन के लिए राशि साढे छह महीने पहले जमा कर दी थी, मगर उसे कनेक्शन नहीं मिल पाया।

किसान ने अपनी मांग पूरा कराने बीते दिनों जिलाधिकारी अनुग्रह पी के पैरों पर सिर रखते हुए गुहार लगाई। यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। मामले ने तूल पकड़ा तो प्रशासन हरकत में आया और रविवार को अजीत जाटव को पांच अश्वशक्ति के पंप के लिए बिजली कनेक्शन दे दिया गया।

बिजली कंपनी के महाप्रबंधक आरके अग्रवाल ने रविवार को बताया कि कृषक को विद्युत कनेक्शन प्रदान किया जा चुका है। मुख्यमंत्री कृषक अनुदान योजना में कृषक अजीत जाटव द्वारा पांच अश्व शक्ति के पम्प कनेक्शन लेने हेतु 14 अगस्त 2018 को राशि जमा कराई गई थी।

राज्य के लगभग हर हिस्से में रविवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें एक किसान हाथ में बर्बाद हुई फसल लिए हुए है, उसकी आंखों से आंसू बहे जा रहे हैं। उसका दर्द है कि बिजली की अनुपलब्धता के चलते उसकी फसल बर्बाद हो गई। उसने ट्रांसफार्मर बदलकर बिजली कनेक्शन दिए जाने के लिए छह माह पहले ही राशि जमा कर दी उसके बावजूद उसे कनेक्शन नहीं मिल सका है।

इस वायरल हो रहे वीडियो से पता चल रहा है कि कार्यालय से बाहर निकलती अनुग्रह पी के पैरों पर किसान अपना सिर रखता हुआ गिड़गिड़ाते हुए कह रहा है कि 'बहिन जी मेरी सुन जाओ', मगर जिलाधिकारी उसकी बात नहीं सुनती और कार में जाकर बैठ जाती हैं।

इसे भी पढ़ेंः

शिवराज ने किसान कर्ज माफी को बताया छलावा, कहा- मेरी पैनी नजरें कांग्रेस पर

तभी एक नेता जिलाधिकारी की कार के करीब आता है, तो जिलाधिकारी अपनी कार का कांच खोलती है और वह नेता जिलाधिकारी को पानी संबंधी समस्या बताता है, उस नेता के पीछे खड़ा किसान अजित अपना दुखड़ा सुनाता है, तब कहीं जाकर जिलाधिकारी उसकी बात सुनती है और जांच की बात कहने के बाद आगे बढ़ जाती हैं।

इस वीडियो के वायरल होने और किसान की समस्या के सामने आने पर सहकारिता मंत्री डा. गोविंद सिंह ने संवाददाताओं से चर्चा के दौरान कहा कि यह मामला उनके सामने आया है, इस संदर्भ में वे मुख्यमंत्री कमलनाथ को अवगत कराएंगे। किसान सरकार की प्राथमिकता है, लिहाजा किसानों को परेशानी न हो इसका ध्यान रखा जाएगा।