तिरुवनंतपुरम: केरल सचिवालय के समक्ष भाजपा के प्रदर्शन स्थल के पास बृहस्पतिवार को 55 वर्षीय एक व्यक्ति ने खुद को आग के हवाले कर दिया, जिसके बाद उसकी मौत हो गई।

व्यक्ति को भगवान अयप्पा का भक्त बताया जा रहा है। इस मौत को लेकर भाजपा ने शुक्रवार को पूरे राज्य में हड़ताल का आह्वान किया है। भाजपा ने दावा किया कि पिनराई विजयन के नेतृत्व वाली केरल सरकार की सबरीमला मंदिर के आसपास लागू निषेधाज्ञा हटाने पर 'अड़े' रहने के रवैये के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए व्यक्ति ने आग लगाई।

पुलिस ने बताया कि मुत्तदा के रहने वाले वेणुगोपाल नैयर का शरीर 90 फीसदी तक जल गया था और उनकी मौत सरकारी चिकित्सा कॉलेज अस्पताल में शाम को हो गई। उन्होंने बताया कि भगवान अयप्पा के मंत्र का जप करते हुए नैयर ने खुद पर पेट्रोल डालकर राज्य सचिवालय के निकट वाले प्रदर्शन स्थल पर तड़के आग लगा ली। और एक तंबू में घुसने का प्रयास किया।

यह भी पढ़ें:

68 सबरीमाला तीर्थयात्रियों की गिरफ्तारी से बवाल, विरोध में थानों के आगे हुई प्रार्थना

उस तंबू में भाजपा के वरिष्ठ नेता सी. के. पद्मनाभन सबरीमला मंदिर के आसपास लागू निषेधाज्ञा हटाने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन अनशन कर रहे हैं। नैयर के रिश्तेदारों को उद्धृत करते हुए पुलिस ने बताया कि नैयर अयप्पा के भक्त हैं।

भाजपा ने नैयर के सम्मान में शुक्रवार को सुबह से लेकर रात तक पूरे राज्य में हड़ताल का आह्वान किया है। भाजपा ने एक प्रेस विज्ञप्ति में दावा किया कि पिनराई विजयन के नेतृत्व वाली केरल सरकार की सबरीमला मंदिर के आसपास लागू निषेधाज्ञा हटाने पर ‘अड़े' रहने के रवैये की वजह से नैयर ने यह भयानक कदम उठा लिया। दरअसल भाजपा यहां उच्चतम न्यायालय द्वारा सबरीमला स्थित भगवान अयप्पा के मंदिर में हर आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश को मंजूरी देने के फैसले को राज्य सरकार द्वारा लागू करने का विरोध कर रही है।

इसके अलावा पार्टी मंदिर के आसपास लागू निषेधाज्ञा हटाने की मांग कर रही है। राज्य सरकार का कहना है कि वह उच्चतम न्यायालय के फैसले को लागू करने के लिए बाध्य है।