नई दिल्ली: महाराष्ट्र के संजय साथे नाम के किसान की इन दिनों खूब चर्चा है। दरअसल साथे ने काफी मेहनत से इस बार प्याज उपजाये थे। इससे कुल 1064 रुपए की राशि प्राप्त हुई थी। इतनी कम कमाई से हताश किसान ने गुस्से में आकर पूरा पैसा प्राइम मिनिस्टर ऑफिस (पीएमओ) को भेज दिया।

मजे की बात ये कि पीएमओ को किसान की नाराजगी का अंदाजा तक नहीं हुआ। उल्टे प्रधानमंत्री दफ्तर ने किसान को रुपए लौटाते हुए कहा कि रकम ऑनलाइन भेजो। प्रधानमंत्री कार्यालय ने साफ कहा कि वो नकद स्वीकार नहीं करते हैँ।

यह भी पढ़ें:

मध्य प्रदेश के इस जिले में बिक रहा है पचास पैसे में प्याज और दो रुपए में एक किलो लहसुन

दरअसल किसान ने मनी ऑर्डर के लिए 54 रुपए अतिरिक्त प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजा था। ताकि ये रकम प्रधानमंत्री राहत कोष में जमा करा दिया जाय। किसान ऐसा करके प्रधानमंत्री को बताना चाह रहा था कि किसानों की हालत कितनी खराब है। पूरे मौसम कड़ी मेहनत के बाद उसे प्रति किलो प्याज का दाम महज 1 रुपया 40 पैसा हासिल हुआ।

किसान संजय साथे ने प्रधानमंत्री को रकम के साथ अपनी व्यथा भी लिखी थी। हालांकि उसकी तकलीफों को लेकर कार्यालय की तरफ से कोई जवाब नहीं आया। साथे ने दावा किया कि उसका मकसद सरकार को बदनाम करना नहीं है। बल्कि वो देश के मुखिया को सच्चाई से अवगत करवाना चाहता है। साथे के मुताबिक उसका किसी राजनीतिक दल से कोई संबंध नहीं है।