हैदराबाद : ओडिशा में एक इनामी महिला नक्सली ने आत्मसमर्पण किया है। दूसरी ओर माओवादियों ने महराष्ट्र के गडचिरोली जिले में एक ट्रक को आग लगा दी है। आपको बता दें कि माओवादी 2 से 8 दिसंबर तक "पीपल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी" सप्ताह मना रहे हैं। इसी क्रम में तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में हाई अलर्ट घोषित किया गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, ओडिशा के मल्कानगिरी जिले में सोमवार को एक महिला माओवादी ने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। उसके सिर पर एक लाख रुपये का इनाम था। मल्कानगिरी के पुलिस अधीक्षक जगमोहन मीणा ने बताया कि इदे माडी (23) माओवादी गतिविधियों में सक्रिय थी। "उसने आत्मसमर्पण करने का निर्णय किया, क्योंकि उसे यह एहसास हो गया था कि हिंसा में कुछ नहीं रखा।''

इसे भी पढ़ें :

माओवादी दल में बड़ा फेरबदल, गणपति की जगह केशव राव बने नये सचिव !

माओवादी पार्टी के महासचिव बने नंबाला केशव राव उर्फ बसवराजू

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि माडी का समर्पण पुलिस के लिए बड़ी उपलब्धि और माओवादियों के लिए झटका है, क्योंकि यह पीएलजीए (पीपल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी) सप्ताह के दौरान हुआ है। प्रतिबंधित भाकपा (माओवादी) रविवार से आठ दिसंबर तक यह सप्ताह मना रही है।

मीणा ने कहा कि माडी, जिले में पोडिया इलाके के सिलाकोटा गांव की रहने वाली है। वह हत्या समेत कई आपराधिक वारदात में संलिप्त रही। ओडिशा सरकार ने उसके सिर पर एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया था। उन्होंने बताया कि माडी को सरकार की समर्पण और पुनर्वास नीति के तहत आर्थिक सहायता मिलेगी। उसे घर बनाने, शिक्षा और व्यापार या रोजगार के वास्ते प्रशिक्षण हासिल करने के लिए आर्थिक सहायता मिलेगी।

दूसरी ओर महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले में एक खदान के नजदीक नक्सलियों ने कथित तौर पर एक ट्रक को जला दिया। हालांकि घटना में कोई भी हताहत नहीं हुआ। पुलिस ने सोमवार को यह जानकारी दी।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महेन्द्र पंडित ने पीटीआई-भाषा को बताया कि यह घटना रविवार को हेदरी गांव में रात में करीब साढ़े दस बजे घटी। यह जगह गढ़चिरौली की इटापल्ली तहसील में सूरजगढ़ में एक लौह अयस्क खनन स्थल से करीब 10 किलोमीटर दूर स्थित है।

उन्होंने बताया, "ट्रक पिछले कुछ दिनों से घटनास्थल पर टूटा पड़ा था। संबंधित ठेकेदार को वाहन को हटा लेने के लिए कहा गया था लेकिन वह वहां खड़ा रहा।'' उन्होंने बताया कि रविवार रात में ट्रक को आंशिक रूप से जला दिया गया।

उन्होंने कहा कि संदेह है कि इसमें नक्सलियों का हाथ है। पुलिस के मुताबिक, नक्सलियों ने पिछले शुक्रवार को इटापल्ली तहसील में एक सड़क ठेकेदार के करीब 14 वाहनों को जला दिया था। नक्सली रविवार से "पीपल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी" (पीएलजीए) सप्ताह मना रहे हैं।

आपको बता दें किक नक्सली 2000 से अपने मारे गये नेताओं और कैडर की याद में दो से आठ दिसंबर के बीच हर साल 'पीएलजीए सप्ताह' मनाते हैं। इसके चलते दोनों तेलुगु राज्यों में हाई अलर्ट जारी है।