नई दिल्लीः कर्ज माफी और फसलों के बेहतर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की मांग को लेकर देशभर के किसान दिल्ली की रामलीला मैदान में जुटना शुरू हो गए हैं। किसानों के प्रदर्शन में शामिल होने आए तमिलनाडु के किसान समूह ने कहा है कि अगर उन्हें शुक्रवार को संसद भवन नहीं जाने दिया गया तो वो नग्न होकर मार्च करेंगे।

किसानों का ये समूह आत्महत्या कर चुके अपने साथी किसानों की खोपड़ियां लेकर विरोध प्रदर्शन में शामिल होने गुरुवार को दिल्ली पहुंचा। किसान समूह के नेता पी. अय्याकन्नू ने कहा कि दक्षिण भारतीय नदी जोड़ कृषक संगठन के करीब 1200 किसान गुरुवार सुबह राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे हैं। ये किसान कर्ज माफी और फसलों के उचित मूल्यों की मांग को लेकर गुरुवार को रामलीला मैदान और शुक्रवार को संसद मार्ग पर होने वाले मार्च में हिस्सा लेंगे।

अय्याकन्नू ने कहा कि वो त्रिची और करूर से भी इस संगठन से जुड़े किसानों के दिल्ली पहुंचने उम्मीद कर रहे थे। पी. अय्याकन्नू ने कहा उनकी मुख्य मांग कर्जमाफी, लाभकारी फसल मूल्य और किसानों को हर महीने पांच हजार रुपये की पेंशन देना है। उन्होंने कहा कि हमारी मुख्य कृषि गतिविधियों में धान रोपाई, कपास की खेती और नारियल और केले की बागवानी शामिल है। तमिलनाडु में कर्ज नहीं चुका पाने की वजह से 700 से ज्यादा किसान आत्महत्या कर चुके हैं।

इसे भी पढ़ेंः

100 फीट ऊंचे पेड़ पर बैठे बाबा की सच्चाई जान रह जाएंगे हैरान, वायरल हो रहा यह Video

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे पास पानी नहीं है और बीते पांच साल से सूखा जैसे हालात का सामना कर रहे हैं। इस साल भी हमें तूफान के कारण भुगतना पड़ा है।'' किसान नेता ने कहा, ‘‘अगर संसद जाते समय पुलिस ने हमें रोकने की कोशिश की तो हम नग्न होकर प्रदर्शन करेंगे।" पिछले साल, किसानों के इस समूह ने खेती में हुए नुकसान के बाद आत्महत्या करने वाले अपने आठ साथियों की खोपड़ियां लेकर जंतर मंतर पर प्रदर्शन किया था।

दिल्ली में ट्रैफिक जाम ने बढ़ाई लोगों की मुसीबत

दिल्ली के विभिन्न हिस्सों से किसानों के बृहस्पतिवार को रामलीला मैदान की ओर कूच करने के कारण राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में यातायात प्रभावित हुआ। किसानों ने शहर में आयोजित होने वाली एक विशाल किसान रैली में हिस्सा लेने के लिए कूच किया है। बृहस्पतिवार सुबह किसान आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर पहुंचे जहां वाम समर्थित छात्र संगठन आइसा के सदस्यों ने उनका स्वागत किया।

किसान दक्षिण-पश्चिम दिल्ली में बिजवासन भी पहुंचे और रामलीला मैदान की ओर अपना मार्च शुरू किया। इस मार्च के कारण बिजवासन और द्वारका लिंक रोड पर यातायात प्रभावित हुआ। पुलिस ने यात्रियों को इस मार्ग से बचने की सलाह दी है। किसान नेताओं ने कहा कि वे उम्मीद करते हैं कि शाम तक रामलीला मैदान में एक लाख किसान एकत्र होंगे। शुक्रवार को वे वहां से संसद की ओर कूच करेंगे।