लुंगलेई(मिजोरम) : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कांग्रेस पर मिजोरम में विकास की उपेक्षा करने का आरोप लगाया और कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र बंदूक, बंद और नाकेबंदी से आगे निकल चुका है।

उन्होंने यहां जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, "पूर्वोत्तर क्षेत्र बंदूक, बंद और नाकेबंदी से आगे निकल चुका है। आज सभी कोई इसे ईटानगर से आइजोल और कोहिमा से कामरूप तक महसूस कर रहे हैं।"

मोदी ने पूर्वोत्तर के वेशभूषा को अजीबोगरीब कहने पर कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा, "पूर्वोत्तर में लोग कई जगहों पर मुझे पारंपरिक वेशभूषा देते हैं, जिसे कांग्रेसी नेता अजीबोगरीब बताते हैं। जब वे यहां आते हैं तो वे काफी बातें करते हैं, लेकिन यही उनकी सच्चाई है। जब मैं कांग्रेस के नेताओं को इस परंपरा के बारे में भला-बुरा कहते सुनता हूं, तो मैं यहां वेदना के गहरे भाव को महसूस करता हूं।"

उन्होंने कहा, "बीते चार वर्षो में, केंद्र की भाजपा सरकार ने बड़े पैमाने पर भारत की संस्कृति और परंपराओं को दूर-दूर तक पहुंचाने का काम किया है।"

उन्होंने लोगों से कांग्रेस शासन से बाहर निकलने की अपील की और कहा, "मिजोरम में कांग्रेस सरकार की वजह से, लोग इसका लाभ नहीं उठा पा रहे हैं। वास्तव में, कांग्रेस सरकार को मिजोरम की कोई परवाह ही नहीं है।"

इसे भी पढ़ें :

सिद्धू बोले : बड़े पूंजीपतियों के हाथ की कठपुतली हैं प्रधानमंत्री, नहीं सुनते किसानों की बात

उन्होंने कहा, "इसकी कार्य संस्कृति की वजह से कई परियोजनाओं में देरी हुई है, जिसकी वजह से राज्य में आधारभूत संरचनाओं की हालत खस्ता है। जबकि पड़ोसी राज्यों की सड़कें बेहतरीन हैं।"

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए, मोदी ने कहा कि कांग्रेस की कार्य संस्कृति विकास नहीं है। इसकी संस्कृति 'लटकाने, अटकाने और भटकाने' की है। उनके लिए राजनीति का माध्यम भ्रष्टाचार है।

मिजोरम विधानसभा की 40 सीटों के लिए मतदान 28 नवंबर को होगा, जबकि मतों की गिनती 11 दिसंबर को होगी। मिजोरम पूर्वोत्तर क्षेत्र का एकमात्र ऐसा राज्य है जहां कांग्रेस का शासन है।