हैदराबाद : आयर लेडी के नाम से मशहूर देश की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की आज जयंती है। अगर वह आज जिंदा होतीं तो 101वां जन्मदिन मना रही होती। उनका जन्म 19 नवंबर 1917 को इलाहाबाद में हुआ था। भारतीय राजनीति के इतिहास में इंदिरा गांधी को विशेष रूप से याद रखा जाता है। इंदिरा गांधी ही थीं जिनके बुलंद हौसलों के आगे पूरी दुनिया ने घुटने टेके थे।

इंदिरा गांधी को तीन कामों के लिए देश सदैव याद करता रहेगा। पहला बैंकों का राष्ट्रीयकरण, दूसरा राजा-रजवाड़ों के प्रिवीपर्स की समाप्ति और तीसरा पाकिस्तान को युद्ध में पराजित कर बांग्लादेश का उदय। इसके अलावा इंदिरा गांधी को फैशन सेंस के लिए भी जाना जाता है। कहा जाता है कि इंदिरा गांधी का फैशन सेंस लाजवाब था। वह एक सशक्त राजनेता के साथ एक आधुनिक महिला भी थी।

महिलाओं से दुख दर्द बांटतीं इंदिरा गांधी
महिलाओं से दुख दर्द बांटतीं इंदिरा गांधी

इंदिरा गांधी का पूरा नाम इंदिरा प्रियदर्शिनी है। देश के सशक्त प्रधानमंत्रियों में शुमार इंदिरा गांधी का बचपन भी बेहद रोचक था। इंदिरा जी ने बचपन में ही एक वानर सेना बना ली थी। इसमें शामिल बच्चे गली-मोहल्लों में जाकर आजादी का नारा बुलंद करते थे। इंदिरा गांधी ने दुनिया की कुछ बेहतरीन यूनिवर्सिटियों से शिक्षा प्राप्त की थी। इसलिए उनका फैशन सेंस लाजवाब था। अंतिम समय तक यह उनकी लाइफस्टाइल में भी झलका। इंदिरा गांधी की हेयर स्टाइल आज भी लोगों में बेहद मशहूर है। इसकी झलक आज भी सेलेब्स में देखने को मिल जाती है।

इंदिरा गांधी साल 1959 में पहली बार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की अध्यक्ष बनी थीं। कहा जाता है कि पिता जवाहरलाल नेहरू उनके पहले राजनैतिक गुरु थे। इंदिरा गांधी अपने मजबूत इरादों को लेकर अपनी राजनीति के शुरुआती दिनों से ही चर्चा में रही थीं।

उन्होंने पहली बार प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के कार्यकाल में सूचना और प्रसारण मंत्री का पद संभाला था। शास्त्री जी के निधन के बाद वह देश की तीसरी प्रधानमंत्री बनीं। इंदिरा गांधी वर्ष 1966 से लेकर 1977 तक देश की प्रधानमंत्री रहीं। इसके बाद 1980 से लेकर अपने निधन यानी 1984 तक फिर से उन्होनें पीएम की कुर्सी को संभाला था।

इसे भी पढ़ें :

इन यादगार तस्वीरों से जानिए इंदिरा गांधी के जीवन के कुछ यादगार पल

इस दौरान उन्होंने राजनीति में कई कड़े फैसले लिए थे। जिसकी वजह से इंदिरा गांधी ने विश्व पटल पर अपनी एक अलग छाप छोड़ी थी। इंदिरा गांधी ने 1969 में देश के 14 निजी बैंकों का राष्ट्रीयकरण कर दिया। इंदिरा गांधी का कहना था कि बैंकों के राष्ट्रीयकरण की बदौलत ही देश भर में बैंक क्रेडिट दी जा सकेगी।

इसके साथ ही पूर्व रजवाड़ों के प्रिवीपर्स समाप्त करना, कांग्रेस सिंडिकेट से विरोध मोल लेना, बांग्लादेश के गठन में मदद देना और अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन को राजनयिक दांव-पेंच में मात देने जैसे तमाम कदम इंदिरा गांधी के व्यक्तित्व में मौजूद निडरता के परिचायक थे।

अंतरिक्ष में अपना झंडा स्क्वाड्रन लीडर राकेश शर्मा के रूप में फहरवाने वाली इंदिरा गांधी ही थीं । जब राकेश शर्मा से वो बात करते हुए पूछा कि अंतरिक्ष से भारत कैसा लग रहा है तो उन्होंने कहा था 'सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा। वह इंदिरा ही थीं जिन्होंने सत्ता से बाहर फेंके जाने के डर के बाद भी पंजाब में फैले उग्रवाद को उखाड़ फेंकने के लिए कड़े फैसले लिए और ऑपरेशन ब्लू स्टार चलाया और स्वर्ण मंदिर तक सेना भेजी।