छत्तीसगढ़ के इस गांव में महज 4 मतदाता, चुनाव आयोग ने किया है ये इंतजाम 

शेरधंद गांव के मतदाता  - Sakshi Samachar

रायपुर : छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में 12 नवंबर को होने वाले पहले चरण के मतदान को लेकर जहां राजनीतिक दलों के बीच घमासान मचा हुआ है, वहीं दूसरी ओर चुनाव आयोग पूर्ण मतदान के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक रही है।

इसी कड़ी में आपको बताता चलूं कि छत्तीसगढ़ में एक ऐसा विधानसभा क्षेत्र है, जहां के एक गांव में सिर्फ 4 मतदाता हैं। इस गांव में केलव तीन ही परिवार निवास करते हैं। भरतपुर- सोनहाट विधानसभा क्षेत्र के शेरधंद गांव में सिर्फ चार मतदाता हैं जिनमें से तीन एक ही परिवार के हैं। मुख्य सड़क से 15 किलोमीटर दूर जंगल में बसे गांव तक पहुंचने के लिए 6 किलोमीटर लंबा पथरीला रास्ता और एक नदी पार करनी पड़ती है।


निर्वाचन अधिकारी एनके दुग्गा ने बताया कि एक दिन पहले चुनाव आयोग के अधिकारी यहां पहुंचेंगे और टेंट लगाकर मतदान कराया जाएगा। इस विधानसभा क्षेत्र से भाजपा ने चंपादेवी पावले को चुनावी मैदान में उतारा है, जबकि कांग्रेस ने गुलाब कमरो पर दांव खेला है।

इसे भी पढ़ें :

छत्तीसगढ़ के इन बूथों पर महिलाओं को बड़ी जिम्मेदारी

इस बार छत्तीसगढ़ में कई नए पहलु सामने आए हैं। सरकार ने जहां मैनपाट मे रहने वाले विस्थापित तिब्बतियों को मतदान का अधिकार दे दिया है, वहीं कोंटा विधानसभा क्षेत्र के एक गांव में पहली बार मतदान केंद्र बनाया गया है। सरकार के इस फैसले से जनता के चेहरे में खुशी की लहर है।

Advertisement
Back to Top