सहारनपुर : दारूल उलूम देवबंद ने नेल पॉलिश को लेकर फतवा जारी किया है। सहारनपुर में 'दारुल-उलूम देवबंद' ने नेल पॉलिश का उपयोग करने वाली मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ फतवा जारी करते हुए इसे गैर-इस्लामी और अवैध करार दिया है।

'दारुल-उलूम देवबंद' के मुफ्ती इशरार गौरा ने कहा कि महिलाओं को अपने नाखूनों पर मेहंदी का उपयोग करना चाहिए। दरअसल, मुजफ्फरनगर के एक शख्स ने दारुल उलूम देवबंद से पूछा था कि क्या औरतें शादी में जाते समय या फिर अपने सजने संवरने के लिए नेल पॉलिश का इस्तेमाल कर सकती हैं। इस संबंध में उन्होंने लिखिल जानकारी मांगी थी।

हाल ही में मुस्लिम महिलाओं के आईब्रो बनवाने को लेकर भी फतवा जारी किया गया था। आपको बता दें कि कुछ दिन पहले कानपुर की एक इस्लामी तनजीम ने फतवा जारी करके अंगदान को नाजायज और गुनाह ठहराया था।

इसे भी पढ़ें :

महिलाओं ने मस्जिदों में प्रवेश के लिए हाईकोर्ट में दायर की याचिका

बुर्के पर आया देवबंद का नया फतवा, पहनने से पहले ध्यान दें महिलाएं

कानपुर स्थित जामियतुल अरबिया अहसनुल मदारिस के मुफ्ती मोहम्मद हुसैन कादरी बरकाती ने गत 5 मार्च को दिए गए फतवे में कहा कि इंसान का जिस्म अल्लाह की अमानत है। उसका बंदा अपने किसी भी अंग का मालिक नहीं होता। वह सिर्फ उसका ख्याल रख सकता है।

फतवे में कहा गया है कि शरीयत के मुताबिक किसी इंसान को अपने शरीर के किसी भी अंग को दान करने का हक नहीं होता, लिहाजा शख्स के मरने के बाद अपने अंगों का दान करने की वसीयत हरगिज जायज नहीं है।