नई दिल्ली: स्वयंभू बाबा दाती महाराज के खिलाफ सीबीआई ने मामला दर्ज कर लिया है। दाती महाराज के खिलाफ बलात्कार और अप्राकृतिक यौन संबंध का मामला दर्ज किया है। इससे पहले दिल्ली उच्च न्यायालय ने मामले की जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंप दिया था। मामले की जांच दिल्ली पुलिस कर रही थी।

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने साकेत कोर्ट में आईपीसी की धारा 376, 377 के तहत चार्जशीट फाइल की थी।

आश्रम में रहने वाली एक शिष्या ने दाती महाराज पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। इस मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने पीड़िता का बयान दर्ज किया था। पीड़िता का आरोप है कि आश्रम में ना सिर्फ दाती महाराज बल्कि उनके अन्य सेवकों ने भी उसके साथ बलात्कार किया।

पीड़िता का कहना है कि करीब दो साल पहले शनि धाम के अंदर उसका यौन शोषण किया गया था। डर के कारण उसने शिकायत दर्ज नहीं कराई थी, अब उसने इस उत्पीड़न के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। पीड़िता ने बताया था कि वह करीब दो साल पहले आश्रम से भाग गई थी और लंबे समय से डिप्रेशन में थी, डिप्रेशन से उबरकर उसने अपने माता-पिता को पूरी बात बताई और उसके बाद आगे का कदम उठाया।

दाती महाराज के खिलाफ 7 जून को शिकायत दर्ज कराई गई थी और 11 जून को मामले में एक FIR दर्ज की गई थी। दाती महाराज से पुलिस ने 22 जून को लगभग 8 घंटों तक पूछताछ की थी। बाबा ने खुद को फंसाए जाने का दावा किया था। पुलिस को दी गई शिकायत में महिला ने दाती महाराज के छोटे भाई का नाम भी लिया था।

इसे भी पढ़ें :

दाती महाराज के खिलाफ यौन उत्पीड़न मामला सीबीआई के हवाले

पीड़िता ने कहा उनके पास भेजने से पहले सफेद कपड़े पहनाए गए थे। पीड़िता ने अपने बयान में कहा था कि उसे चरण सेवा के लिए उसे एक अंधेरे गुफा जैसे कमरे में भेजा गया था। दाती महाराज ने उससे कहा कि, 'मैं तुम्हारा प्रभु हूं। फिर भला क्यों इधर-उधर भटकना। मैं सब वासना खत्म कर दूंगा।'

दुष्कर्म करने के बाद बाबा ने पीड़िता से कहा कि अब तुम्हारी पूजा पूरी हूई । रेप करने के बाद दाती महाराज की करीबी शिष्याएं पीड़िता का माइंडवॉश करने का काम करती थीं।

इसे भी पढ़ें :

दाती के खिलाफ CBI जांच की मांग को लेकर याचिका दायर, राम रहीम जैसा हो सकता है हश्र