नई दिल्ली : सीबीआई बनाम सीबीआई की रार बढ़ती जा रही है। सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच विवाद अब अपने चरम पर है। सूत्रों के मुताबिक, दोनों निदेशकों आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया गया है। केंद्र सरकार ने नागेश्वर राव को अंतरिम निदेशक नियुक्त किया है।

नागेश्वर राव ने बुधवार सुबह ही अपना कार्यभार संभाला लिया है। इसके अलावा बुधवार सुबह ही सीबीआई ने अपने दफ्तर के 10वें और 11वें फ्लोर को भी सील कर दिया है।

नागेश्वर राव सीबीआई में अभी जॉइंट डायरेक्टर के तौर पर काम कर रहे थे। 1986 बैच के ओडिशा कैडर के आईपीएस अधिकारी राव तेलंगाना के वारंगल जिले के रहने वाले हैं।

इसे भी पढ़ें :

CBI घूसकांड में आरोपी डीएसपी देवेंद्र कुमार गिरफ्तार, राहुल ने कहा, “विश्वसनीय एजेंसी की साख गिरी”

CBI ने अपने ही विशेष निदेशक के खिलाफ दर्ज किया केस

केंद्र द्वारा जारी आदेश में नागेश्वर राव को तत्काल प्रभाव से आलोक वर्मा की जगह नियुक्त किया गया है। गौरतलब है कि एजेंसी ने अपने ही स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना पर केस दर्ज किया है।

एफआईआर में उन पर मांस कारोबारी मोइन कुरैशी से 3 करोड़ रुपये की रिश्वत लेने का आरोप लगाया गया है। सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद इस मामले में दखल दिया था।

डायरेक्टर आलोक वर्मा की पीएम से मुलाकात हुई और एक घंटे के भीतर ही केस से जुड़े डीएसपी रैंक के अधिकारी देवेंद्र कुमार गिरफ्तार हो गए। कुछ देर बाद तमाम अधिकारियों के ठिकानों पर सीबीआई ने छापे भी मारे।