लखनऊ : आखिरकार 444 साल बाद इलाहाबाद एक बार फिर प्रयागराज के नाम से जाना जाएगा। काफी दिनों से उठ रही मांग को यूपी सरकार ने आज अपनी मुहर लगा दी। योगी कैबिनेट की बैठक में इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज रखे जाने के प्रस्ताप पर समहति बन गई है। इलाहाबाद अब प्रयागराज के नाम से जाना जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में तय किया गया कि इलाहाबाद का नाम अब प्रयागराज होगा। बैठक के बाद राज्य सरकार के प्रवक्ता स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने यहां संवाददाताओं को बताया कि प्रयागराज नाम रखे जाने का प्रस्ताव कैबिनेट की बैठक में आया, जिसे मंजूरी प्रदान कर दी गयी। ऋगवेद, महाभारत और रामायण में प्रयागराज का उल्लेख मिलता है।

उन्होंने कहा कि सिर्फ वह ही नहीं, बल्कि समूचे इलाहाबाद की जनता, साधु और संत चाहते थे कि इलाहाबाद को प्रयागराज के नाम से जाना जाए। दो दिन पहले जब मुख्यमंत्री ने कुंभ से संबंधित एक बैठक की अध्यक्षता की थी, तो उन्होंने खुद ही प्रस्ताव किया था कि इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किया जाना चाहिए। सभी साधु संतों ने सर्वसम्मति से इस प्रस्ताव पर मुहर लगायी थी।

यह भी पढ़ें :

अमिताभ बच्चन करेंगे कुंभ की ब्रांडिंग, कवायद में जुटी योगी सरकार

प्रयाग कुंभ : तीर्थयात्रियों को मिलेगी बेहतरीन सुविधाएं, ऐप से मिलेगी मदद

उल्लेखनीय है कि इलाहाबाद में कुंभ मार्गदर्शक मंडल की बैठक में भी यह मुद्दा आया था। इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किये जाने की मांग अरसे से चल रही थी। राज्यपाल राम नाईक ने भी इसके नाम बदलने पर सहमति जताई थी।