श्रीनगर : सुरक्षा बलों ने शोधछात्र से आतंकी बने मनन बशीर वानी समेत हिजबुल मुजाहिद्दीन के दो आंतकवादियों को गुरुवार को उत्तर कश्मीर के सीमावर्ती जिले हंदवाड़ा में मुठभेड़ में मार गिराया। पुलिस ने बताया कि कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा के सतगुंड में आज सुबह हुई मुठभेड़ में वानी मारा गया।

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में पीएचडी का छात्र वानी इस साल जनवरी में आतंकवादी संगठन में शामिल हुआ था। मुठभेड़ में ढेर हुआ दूसरा आतंकवादी आशिक हुसैन हंदवाड़ा के लंगेट इलाके का रहना वाला है। मुठभेड़ में दो सुरक्षा कर्मी भी घायल हुए हैं। वानी और दो अन्य आतंकवादियों के गांव में मौजूद होने की खुफिया जानकारी मिलने के बाद सतगुंड में अलसुबह यह मुठभेड़ शुरू हुई।

मुठभेड़ की जानकारी देते हुए अधिकारी ने बताया कि पुलिस और अन्य सुरक्षा बलों के कर्मी जैसे ही वहां पहुंचे, उन पर वहां मौजूद आतंकवादियों ने गोलियां चलाई। इसके बाद मुठभेड़ शुरू हुई जो सुबह करीब 11 बजे तक चली। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ के दौरान पुलिस ने लगातार घोषणा कर आतंकवादियों से आत्मसमर्पण करने की अपील भी की।

अधिकारियों ने बताया कि सुबह करीब नौ बजे गोलीबारी रुक गई जिसके बाद पुलिस ने मुठभेड़ स्थल पर तलाशी अभियान शुरू किया लेकिन 15 मिनट बाद फिर से गोलीबारी शुरू होने के कारण तलाशी अभियान रोकना पड़ा। कानूनी प्रक्रिया पूरी होने के बाद वानी का शव उनके परिवार वालो को सौंप दिया गया।

यह भी पढ़ें : कश्मीर में सुरक्षा बलों ने आतंकवादियों को घेरा, AMU का पीएचडी छात्र भी शामिल

कुपवाड़ा जिले के लोलाब इलाके में उसके पैतृक गांव तेकीपोरा में 10,000 से अधिक लोग उसके अंतिम संस्कार में शामिल हुए। वानी की मौत की खबर फैलते ही लोग प्रदर्शन करने के लिए सड़कों पर उतर आए और कुछ स्थानों पर सुरक्षा बलों पर पथराव भी किया गया। अधिकारियों ने कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए स्कूलों और अन्य शैक्षिण संस्थानों को बंद कर दिया। क्षेत्र में इंटरनेट सेवाएं भी ठप रहीं और कई इलाके बंद भी रहे।

मारे गए आतंकवादी को श्रद्धांजलि देने के लिए अलगाववादियों ने शुक्रवार को बंद बुलाया है। हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘मनन वानी और उसके साथियों की मौत की दुखद खबर सुनी। उनके जैसे एक उभरते बुद्धिजीवी और लेखक की मौत से बेहद दुखी हूं, जो आत्मनिर्णय के हक की लड़ाई लड़ रहे थे। जेआरएल ने उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए पूरी तरह बंद का आह्वान किया है।''