पणजी : उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि यदि कोई धर्म, क्षेत्र या भाषा के आधार पर भेदभाव करता है, तो केवल 'भारत माता' की तस्वीरें लेकर वह देशभक्त नहीं बन सकता है।

उन्होंने कहा, "देशभक्ति का मतलब केवल यह नहीं है कि भारत माता की केवल तस्वीर ले लें और दूसरों व जरूरतमंदों के साथ दुर्व्यवहार करें। आपको हर किसी के साथ प्यार-स्नेह के साथ व्यवहार करना होगा, तभी आप देशभक्त कहलाएंगे।"

वेंकैया नायडू ने राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान में एक समारोह में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा, "अगर आप धर्म, क्षेत्र या भाषा के आधार पर लोगों से भेदभाव करते हैं तो आप राष्ट्रवादी नहीं हैं।"

यह भी पढ़ें :

शरद यादव का खुलासा, राहुल नहीं हैं महागठबंधन के प्रधानमंत्री उम्मीदवार

पाकिस्तानी विदेश मंत्री का भाषण बिना सुने बीच बैठक से बाहर चली गईं सुषमा स्वराज

उन्होंने कहा, "यह भारत की विशेषता है। अलग-अलग जाति, संप्रदाय, लिंग, धर्म और क्षेत्र के बावजूद भारत एक है। एक राष्ट्र, एक लोग, एक देश.. यह सोच आप सभी की होना चाहिए। यही देशभक्ति है।"

-आईएएनएस