इलाहाबाद : बैंकों में एक व्यक्ति की रकम किसी दूसरे के खाते में चले जाने या खाता संख्या लिखने में एकाध संख्या गलत होना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन यहां एक ही नाम की दो महिलाओं के खातों में अदला बदली से एक महिला का अच्छा खासा नुकसान हो गया।

सार्वजनिक क्षेत्र के इलाहाबाद बैंक की एलनगंज शाखा में एक ऐसी ही चूक हुई, जिसकी वजह से एक बुजुर्ग महिला को नुकसान हो गया और उन्हीं की हमनाम एक महिला बिना कुछ किए लखपति हो गई। बैंक ने पार्वती देवी नाम की एक महिला की खाता संख्या इसी नाम की एक दूसरी महिला को पासबुक में प्रिंट करके दे दिया। बैंक के एक अधिकारी ने बताया कि छोटा बघाड़ा निवासी पार्वती देवी का खाता इस बैंक में था।

करनपुर प्रयाग स्टेशन की रहने वाली पार्वती देवी ने इसी वर्ष जनवरी में इस बैंक में खाता खुलवाया तो बैंक ने बघाड़ा की रहने वाली पार्वती की खाता संख्या करनपुर प्रयाग की पार्वती देवी की पासबुक में प्रिंट करके दे दी। नतीजा यह हुआ कि एक पार्वती के खाते में आई रकम को दूसरी पार्वती ने निकाल लिया।

उन्होंने बताया कि छोटा बघाड़ा में रहने वाली पार्वती देवी ने शुरू में तो पैसे निकालने से इंकार किया, लेकिन जब उससे कड़ाई से पूछताछ की गई तो उसने मान लिया कि खाते में आई रकम के बारे में बैंक को बताने की बजाय उसने अपने बेटे के इलाज के लिए उसमें से काफी रकम निकाल ली।

इसे भी पढ़ें :

चुनावी रणनीतिकार PK की पोलिटिकल एंट्री, नीतीश के समक्ष थामा JD(U) का दामन

वह बहुत गरीब है और घरों में झाड़ू पोछा करने का काम करती है। करनपुर, प्रयाग स्टेशन की रहने वाली पार्वती देवी ने पीटीआई भाषा को बताया कि जीवन बीमा की एक पालिसी का पैसा लेने के लिए उन्होंने इसी साल 20 जनवरी को इलाहाबाद बैंक की एलनगंज शाखा में 1,000 रुपये से अपना बचत खाता खुलवाया था।

उन्होंने बताया, “पासबुक पर मेरी फोटो लगी थी और एक अकाउंट नंबर लिखा था। मैंने खाते का ब्यौरा सही मानकर इसे एलआईसी दफ्तर में दे दिया और पिछले 23 मार्च को एलआईसी ने 1,62,000 रुपये की रकम उस खाते में डाल दी। हालांकि इस बारे में मैंने बाद में बैंक जाकर पता नहीं किया।

'' उन्होंने बताया, “जुलाई के अंत में जब मेरी बहू 1,000 रुपये जमा करने बैंक गई और उसने पासबुक अपडेट कराई तो खाते से कुल 80,000 रुपये निकलने की बात पता चली। बैंक के कई चक्कर लगाने के बाद पता चला कि मुझे छोटा बघाड़ा निवासी पार्वती देवी की खाता संख्या दे गई थी और उसी में मैंने पैसे जमा करा दिए जिसे उस पार्वती देवी ने निकाल लिए।”

छोटा बघाड़ा निवासी पार्वती देवी ने एक मई को 5,000 रुपये से निकासी शुरू की और जुलाई तक कुल 80,000 रुपये निकाल लिए। हालांकि शिकायत मिलने पर बैंक ने उसके खाते पर रोक लगा दी जिससे बाकी की रकम निकलने से बच गई।

इलाहाबाद बैंक की एलनगंज शाखा के प्रबंधक ए.के. सिंह ने बताया, हम पूरी कोशिश कर रहे हैं कि रकम की वापसी हो जाए। करनपुर निवासी पार्वती देवी को सही खाता संख्या के साथ नयी पासबुक दे दी गई।