नई दिल्ली: आज केंद्रीय कैबिनेट की अहम बैठक में पेट्रोल डीजल के दामों में इजाफे पर कोई चर्चा नहीं हुई। बैठक में बायोफ्यूल पर मंत्रियों ने विचार विमर्श किया लेकिन उम्मीद के मुताबिक पेट्रोल-डीजल का मुद्दा गायब रहा।

इस बारे में बैठक के बाद पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान से पत्रकारों ने सवाल किया तो उन्हें जवाब देते नहीं बना और वे चुप्पी साध गए। काफी कुरेदने के बाद धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि कैबिनेट बैठक में पेट्रोल डीजल से संबंधित कोई चर्चा नहीं हुई।

आज की बैठक में सरकार ने एथनॉल की कीमतों में 25 फीसदी इजाफे का फैसला किया है। इस फैसले से चीनी मिलों को फायदा मिलेगा।

इससे पहले केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर राज्यों को वैट में कटौती की सलाह दी थी। वहीं केंद्र सरकार के टैक्स घटाने पर प्रधान कन्नी काटते नजर आए।

यह भी पढ़ें:

तेल की कीमतों में लगी आग, मुंबई में 86.72 रुपये प्रति लीटर पेट्रोल

केंद्र सरकार और इनके मंत्री लगातार कच्चे तेलों की उपलब्धता और अमेरिकी नीतियों को दाम में इजाफे की वजह बताते रहे हैं। इस बीच चुनावी माहौल को देखते हुए कांग्रेस और विपक्षी पार्टियों ने पेट्रोल-डीजल को अहम मुद्दा बना लिया है। सोमवार को देशव्यापी बंद के मद्देनजर उम्मीद की जा रही थी कि आज की कैबिनेट बैठक में सरकार कुछ राहत की घोषणा कर सकती है। जबकि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ।