मुंबई: महाराष्ट्र सरकार में एडीजी परमबीर सिंह ने पत्रकार वार्ता में उस मूल चिट्ठी का खुलासा किया जिसमें रुना विल्सन ने कॉमरेड प्रकाश को पीएम मोदी की हत्या के बारे में लिखा था। साथ ही पत्र में ग्रेनेड लॉन्चर की खरीद के लिए आठ करोड़ रुपए के जुगाड़ की गुजारिश की गई थी। इसमें कॉमरेड किशन का जिक्र है जिनकी मंशा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दिवंगत राजीव गांधी की तरह हत्या करने की थी।

महाराष्ट्र में हुए यल्गार परिषद की रैली में भड़काउ भाषण दिए जाने का एडीजीपी ने जिक्र किया। इस रैली में करीब चार हजार लोगों के शामिल होने की बात कही गई है। अब पुलिस पता कर रही है कि किन नेताओं और नक्सलियों ने लोगों को उकसाया। उनकी जल्दी ही गिरफ्तारी की उम्मीद की जा रही है।

महाराष्ट्र पुलिस के उच्चाधिकारी ने साफ कहा कि तेलुगू लेखक वरावरा राव और वकील सुधा भारद्वाज के नक्सलियों से गहरे ताल्लुकात हैं। इसको लेकर पुलिस के पास पुख्ता सुबूत भी है। इसके अलावा नक्सलियों का आतंकी संगठनों से नाते का भी खुलासा हुआ है।

यह भी पढ़ें:

वरवर राव गिरफ्तार, पत्नी ने कहा- पुलिस ने मोदी की हत्या की साजिश से जोड़ा

आदिवासियों को निशाना बनाने के लिए ही मोदी की हत्या के षडयंत्र का प्रचार किया जा रहा है : वरवर राव

बता दें कि प्रधानमंत्री की हत्या की साजिश को लेकर विपक्षी पार्टियों ने सहानुभूति बटोरने की सरकार की मंशा बताई थी। जिसे महाराष्ट्र पुलिस ने सिरे से खारिज किया है। अधिकारी के मुताबिक पुलिस के पास नक्सलियों के बड़े नेटवर्क और उनसे संबंध रखने वाले तथाकथित बुद्धिजीवियों के बारे में कई सुबूत हैं। जिस पर कार्रवाई की जा रही है। संदिग्धों को जल्दी ही गिरफ्तार किया जायेगा।