इडुक्कि (केरल): राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) के बचाव अधिकारी कन्हैया कुमार की बहादुरी की सब दाद दे रहे हैं। बाढ़ प्रभावित केरल के इडुक्की में इन्होंने जान पर खेलकर एक बच्चे को बचाया। जब लोगों ने इस जांबाज अधिकारी की तारीफ की तो इन्होंने विनम्रता से शुक्रिया कहा, फिर बताया कि ये तो उनकी जिम्मेदारी थी।

सोशल मीडिया पर एनडीआरएफ कर्मी कन्हैया का विडियो वायरल है। जो सीने से बच्चे को चिपकाए जान की परवाह किए बिना पुल पर दौड़ लगा रहे हैं। केरल में सैलाब का आलम ये कि पुल के किसी भी वक्त ध्वस्त होने की आशंका है। बचाव अधिकारी के पुल पार करने के कुछ मिनट बाद ही चेरुथोनी बांध से छोड़े गए बाढ़ के पानी की वजह से पुल टूट गया।

मूल रूप से बिहार के रहने वाले कन्हैया ने कहा कि वे बीते छह साल से एनडीआरएफ में तैनात हैं। इस दौरान उन्होंने समर्पण के साथ काम किया और न जाने कितने ही लोगों की जान बचाई। आज पहली बार उनके इस काम की व्यापक सराहना हो रही है।

यह भी पढ़ें:

केरल में बाढ़ से हालात बेहद खराब, राजनाथ ने अतिरिक्त सहायता का किया एलान

जिस बच्चे को कन्हैया ने बचाया उसे तेज बुखार के कारण फिलहाल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बच्चे को अस्पताल पहुंचाना बेहद जरूरी था, जिस काम को कन्हैया ने बखूबी अंजाम दिया। कन्हैया तब भावुक हुए बिना नहीं रह सके जब पुल पार करने के बाद मासूम बच्चे ने उन्हें थैंक्यू कहा।