सुप्रीम कोर्ट का फैसला : अडल्ट्री के लिए महिलाएं नहीं, केवल केवल पुरुष होंगे दोषी

सुप्रीम कोर्ट ( फाइल फोटो)  - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : अडल्ट्री यानी व्याभिचार को लेकर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने कहा है कि अडल्ट्री (शादी के बाद संबंध) का दोषी केवल पुरुष होगा। कोर्ट ने साफ किया कि इन मामलों में महिलाओं को आरोपी नहीं बनाया जा सकता है।

अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अडल्ट्री का दोषी पाए जाने पर बिना लिंग भेद किए महिला और पुरुष को समान रूप से दंडित नहीं किया जा सकता।

इसे भी पढ़ें

गैर मर्दों से संबंध बनाने वाली शादीशुदा महिलाओं को भी हो सजा, संविधान पीठ मामले में गंभीर

बता दें कि शादी के बाद बनाए जाने वाले रिश्तों के लिए भारत में सिर्फ पुरुषों को ही सजा देने का प्रावधान है। दरअसल भारतीय दंड संहिता के मुताबिक एक शादीशुदा महिला और गैर पुरुष के बीच रजामंदी से हुआ शारीरिक संबंध गैर कानूनी है।

अगर उसमें पति की सहमति शामिल ना हो, लेकिन अगर असहमति के बावजूद भी संबंध बनता है तो पति की शिकायत पर केस उस गैर मर्द के खिलाफ बनता है, जिसके साथ पत्नी के संबंध बने हैं, लेकिन पूरे मामले में पत्नी पर कोई मामला दर्ज नहीं होता।

Advertisement
Back to Top