जयपुर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजस्थान की राजधानी जयपुर में केंद्र और प्रदेश सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों से आज संवाद करेंगे। पीएम मोदी जयपुर पहुंच गए हैं।

वायुसेना के विशेष विमान से उनके सांगानेर हवाई अड्डे पहुंचने पर राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने उनकी अगवानी की। हवाई अड्डे पर कुछ क्षण रूकने के बाद प्रधानमंत्री वहां से सेना के ​एक हेलीकाप्टर से सवाई मान सिंह स्टेडियम रवाना हो गए जहां से वह सड़क मार्ग से विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से संवाद करने सभा स्थल 'अमरूदों के बाग' पहुंचेंगे।

सांगानेर हवाई अड्डे पर प्रधानमंत्री के स्वागत के लिये जयपुर के मेयर अशोक लाहोटी, मुख्य सचिव डी बी गुप्ता और पुलिस महानिदेशक ओपी गलहोत्रा भी मौजूद थे। प्रधानमंत्री के आगमन को देखते हुए शहर में सुरक्षा के व्यापक बंदोबस्त किये गये हैं। अमरूदों के बाग में प्रधानमंत्री केन्द्र और राज्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों से संवाद करेंगे और जनसभा को संबोधित करेंगे।

सरकार ने प्रदेश के 33 जिलों से लाभार्थियों को जयपुर में प्रधानमंत्री से संवाद करने के स्थान तक लाने के लिए पांच हजार 579 बसों का प्रबंध किया है। सामान्य प्रशासन विभाग के एक आदेश के अनुसार 33 जिलों से लाभार्थियों को जयपुर लाने के लिये राज्य सरकार 722.53 लाख रूपये खर्च करेगी।

आदेश के अनुसार, लाभार्थियों को जयपुर लाने वाली बसों को 20 रूपये प्रति किलोमीटर का भुगतान किया जायेगा, और इससे राजकीय कोष पर लगभग 7.2 करोड़ का खर्च होगा। अधिकतर बसें अलवर, उदयपुर और अजमेर से आने की संभावना है। अकेले जयपुर से लाभार्थियों को लाने के लिये 532 बसें चक्कर लगायेंगी।

यह भी पढ़ें :

मोदी ने नवनियुक्त IAS अधिकारियों को दिए TIPS, बताया ऐसे करें काम

मोदी सरकार ने किसानों को दिया तोहफा, फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में रिकॉर्ड इजाफा

आदेश के अनुसार, उज्जवला योजना के तहत पारंपरिक खाना पकाने की जगह एलपीजी सिलेंडर का आंशिक खर्चा तेल कंपनियों द्वारा वहन किया जायेगा। हालांकि एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटर्स फेडरेशन ने इस आदेश का विरोध जताते हुए कहा कि जिला रसद अधिकारी उन पर अनुचित और अवैध मांगों का दबाव बना रहे हैं।

राजस्थान के एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटर्स फेडरेशन के अध्यक्ष दीपक सिंह गहलोत ने कहा, "तेल कंपनिया को इस खर्चे को वहन करना चाहिए लेकिन जिला रसद अधिकारी इन अनुचित और अवैध मांगों को मानने के लिये दबाव बना रहे हैं। हमने मुख्य सचिव को इस बारे में पत्र लिखा है। मुख्य सचिव ने हमें सब तरह की सहायता का भरोसा दिलाया है।''

वहीं प्रधानमंत्री की यात्रा के लिये शहर में कड़े सुरक्षा बंदोबस्त किये गये हैं। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक एनआरके रेड्डी ने बताया कि प्रधानमंत्री की यात्रा के लिये शहर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं।

प्रधानमंत्री के सभा स्थल के पास सवाई मान सिंह स्टेडियम में दो हेलीपेड बनाये गये हैं। सभी संवेदनशील इलाकों में भारी सुरक्षा बल तैनात कर सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं। किसी भी संदिग्ध गतिविधि की सूचना की चेतावनी अस्थायी नियंत्रण कक्ष को दी जा सकेगी।

रेड्डी ने कहा, "हमने आसपास के 18 जिलों के पुलिस अधीक्षकों को बुलाया है, ये सभी अधिकारी पूर्व में जयपुर में तैनात रह चुके हैं और शहर की भौगोलिक स्थितियों से वाकिफ हैं।"