जम्मू : अमरनाथ यात्रा अभूतपूर्व सुरक्षा के बीच आज से शुरू हो गई। इस वर्ष इस यात्रा के लिए देशभर के विभिन्न भागों से 1.96 लाख लोगों ने पंजीकरण कराया है। यात्रियों का पहला जत्था भगवती नगर यात्री निवास पर पहले ही पहुंच गया और आज सुबह बहुस्तरीय सुरक्षा काफिले के साथ कश्मीर घाटी के लिए रवाना हुआ।

घाटी में सुरक्षा के लिए तैनात कुल सुरक्षाकर्मियों की मौजूदा संख्या के अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों की 213 कंपनियों को इस वर्ष यात्रा के लिए अलग से बुलाई गई हैं। सेना, अर्धसैनिक बलों, राज्य पुलिस और राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल के लगभग 40,000 सुरक्षाकर्मी यात्रा ड्यूटी पर तैनात किए गए हैं। इस वर्ष की यात्रा के लिए पहली बार खुफिया अधिकारी सादी वर्दी में इलेक्ट्रॉनिक और मानव चौकसी करेंगे।

पहली बार रेडियो फ्रिक्वेंसी लगे यात्रा वाहन, ड्रोन के जरिए निगरानी और कमांडो के मोटरसाइकिल दस्ते यात्रा मार्ग पर तैनात सेना, अर्धसैनिक बल और पुलिसकर्मियों की मदद के लिए तैनात किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :

अमरनाथ यात्रा हमले का मास्टरमाइंड अबु इस्माइल मुठभेड़ में ढेर

रक्षा मंत्री ने अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा व्यवस्था का लिया जायजा, राज्यपाल से की मुलाकात

वार्षिक यात्रा का प्रबंधन करने वाला श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड एसएएसबी ने इस वर्ष प्रत्येक मार्ग से हर रोज 7,500 यात्रियों को ही छोड़ने का निर्णय लिया है। इसमें हालांकि हेलीकॉप्टर सेवा के जरिए गुफा तक पहुंचने वाले यात्री शामिल नहीं होंगे।

समुद्र तल से 12,756 फुट की ऊंचाई पर स्थित अमरनाथ गुफा में बर्फ का शिवलिंग निर्मित होता है, जिसके दर्शन के लिए श्रद्धालु प्रतिवर्ष वहां उमड़ते हैं।

-आईएएनएस