गिरिराज सिंह ने RJD और कांग्रेस से पूछा सवाल- क्या ये इंडिया को पाकिस्तान में बदलना चाहते हैं ?

गिरिराज सिंह। - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : अपने विवादित बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में रहने वाले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह एक बार फिर चर्चा में है। उन्होंने कांग्रेस और आरजेडी से सवाल पूछा है। गिरिराज सिंह ने असदुद्दीन ओवैसी और उनके भाई अकबरुद्दीन-ओवैसी और उनके पार्टी नेता वारिस-पठान द्वारा कथित "नफरत भरे भाषणों" का हवाला देते हुए शुक्रवार को कहा कि क्या "टुकडे टुकडे" गैंग भारत को पाकिस्तान बनाना चाहते हों।

गिरिराज सिंह ने सोशल नेटवर्किंग साइट पर अकबरूद्दीन औवैसी और वारिस पठान द्वारा दिए गए बयान का 15 मिनट का एक वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में असदुद्दीन ओवैसी की मौजूदगी में वारिस पठान यह कहते हुए दिखाई दे रहे हैं कि 15 करोड़ है, मगर 100 करोड़ पर भारी हैं। याद रख लेना ये बात।

इसे भी पढ़ें

जल्द ही नप जाएंगे भाजपा के बड़बोले नेता गिरिराज, ऐसी हो रही है तैयारी..!

गिरिराज सिंह बोले- जो अंग्रेज और मुगल ना कर पाए वो राहुल और औवैसी कर रहे

उन्होंने गुरुवार को असदुद्दीन ओवैसी द्वारा आयोजित एक एंटी-सीएए रैली में 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे लगाए अमूल्या के उदाहरण का भी उल्लेख किया।

सिंह ने लिखा, "मैं कांग्रेस, राजद और 'टुकडे टुकडे' गिरोह से पूछना चाहता हूं, 'क्या वे भारत को पाकिस्तान में बदलना चाहते हैं?"

"गिरिराज सिंह ने 16 फरवरी को कहा था , ‘’अकबरुद्दीन ओवैसी के पूर्वज" लुटेरे "थे, जिन्होंने लाल किले का निर्माण किया था? “ हैदराबाद के किसी व्यक्ति ने कहा कि अगर पुलिस को 15 मिनट के लिए हटा दिया जाता है, तो वे हिंदुओं को सबक सिखाएंगे। ‘’वहीं सांसद ओवैसी के भाई अकबरुद्दीन ओवैसी कह रहे थे कि उनके पूर्वजों ने लाल किला और मीनार का निर्माण किया है। मैं कहना चाहता हूं कि वे आपके पूर्वज नहीं थे, वे लूटेरे थे। सिंह ने एक कार्यक्रम में कहा, "बड़े लूटेरे, अंग्रेज, आए और आप भाग गए।"

इससे पहले, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने गुरुवार को पूर्णिया में कहा कि 1947 में ही सभी मुस्लिमों को पाकिस्तान भेज देना चाहिए था। उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वजों ने गलती की थी, जिसका खामियाजा आज भुगतना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि देश के विभाजन के कारणों में एक वाजिब नागरिकता का बड़ा सवाल था। देश विभाजन के समय चूक हुई।

उन्होंने कहा, "1947 में आजादी के समय हमारे पूर्वजों से भूल हुई। अगर उस वक्त ही मुसलमान भाइयों को वहां (पाकिस्तान) भेज दिया जाता और हिंदुओं को यहां बुला लिया जाता, तो आज यह नौबत ही नहीं आती।"

Advertisement
Back to Top