जयपुर : कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मंगलवार को राजस्थान की राजधानी जयपुर में 'युवा आक्रोश रैली' में युवा कांग्रेस के नेशनल रजिस्टर ऑफ अनएम्पलायमेंट (एनआरयू) पोस्टर का विमोचन किया। राहुल गांधी, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और अन्य नेताओं ने एनआरयू के साथ 'डिग्री है रोजगार नहीं', 'मेरी नौकरी कहां है, ‘जुमले नहीं नौकरी चाहिए' नारों का विमोचन किया।

पोस्टर के विमोचन के दौरान युवा कांग्रेस के एक नेता ने बताया कि युवा कांग्रेस ने नेशनल रजिस्टर आफ अनएम्लाइड यूथ की शुरूआत की है जिसमें प्रत्येक बेरोजगार युवा का पंजीकरण किया जायेगा ताकि हम प्रधानमंत्री के पास जाये और उन्हें बतायें कि युवाओं को नौकरी नहीं मिल रही है और वे बेरोजगार हैं।

कार्यक्रम में बोलते हुए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कई गंभीर आरोप लगाए। राहुल गांधी ने मोदी पर देश की बहुलतावादी छवि को दुनिया में धूमिल करने का आरोप लगाया और कहा कि मोदी अर्थशास्त्र नहीं समझते हैं।

राहुल गांधी ने युवाओं से निडर बने रहने का आह्वान किया और कहा कि 'हम मिलकर हिंदुस्तान बदलेंगे।' राहुल गांधी ने कहा, "देश में करीब एक करोड़ युवाओं ने अपनी नौकरी गवां दी है, लेकिन इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री चुप हैं। मोदी सीएए, एनआरसी और एनपीआर पर लंबे भाषण देते हैं, लेकिन बेरोजगारी के मुद्दे पर चुप रहते हैं।"

उन्होंने कहा, "संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के कार्यकाल के दौरान विकास दर 9 फीसदी थी, जो पांच फीसदी से नीचे आ गई है, ऐसा तब है जब जीडीपी के गणना के पैरामीटर्स में बदलाव किया गया है। अगर हम इसे पूर्व के पैमाने पर गणना करें तो यह 2.5 फीसदी के करीब होगी।"

यह भी पढ़ें :

Video : जेडीयू से बाहर होंगे PK, नीतीश ने बातों ही बातों में कही यह बड़ी बात

NCC रैली में बोले पीएम मोदी, पाकिस्तान को 10 दिन में धूल चटा सकती है सेना

राहुल गांधी ने कहा कि अर्थव्यवस्था को तब बढ़ावा मिलता है जब गरीब और किसानों को पैसा मिलता है और वे खरीद शुरू करते हैं। राहुल ने कहा, "मोदी इस मूल तथ्य को नहीं समझते हैं, क्योंकि वह अर्थशास्त्र को नहीं समझते।"

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने आगे कहा कि हिंदुस्तान में करोड़ों युवा हैं, जो इसके सबसे बड़े संसाधन हैं। यहां तक कि दुनिया का मानना है कि भारतीय युवा दुनिया को बदल सकते हैं। इससे पहले पूरी दुनिया भारत में निवेश के लिए आती थी, क्योंकि उन्हें भारतीय युवाओं पर विश्वास था। लेकिन वर्तमान में वे बढ़ती हिंसा की वजह से देश में निवेश नहीं कर रहे।