महाराष्ट्र : होटल हयात में 162 विधायकों की परेड, शपथ -BJP को समर्थन नहीं करूंगा  

विधायकों ने सोनिया उद्धव और शरदपवार की कसम खाई। - Sakshi Samachar

मुंबई : भारतीय राजनीति और महाराष्ट्र के इतिहास में सोमवार को एक अभूतपूर्व अध्याय जुड़ता देखा गया। संख्या बल दिखाने के लिए अब तक राज्यपाल के सामने विधायकों की परेड होती रही है, लेकिन यहां शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस ने संयुक्त रूप से सोमवार को अपने 162 विधायकों की सार्वजनिक परेड आयोजित की।

ऐसा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) व उसके सहयोगी राकांपा के अजित पवार गुट के 170 विधायकों का संख्या बल होने के दावे को 'झूठा' साबित करने के लिए किया गया। यह परेड सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार की सुबह इन पार्टियों की याचिका पर सुनवाई से महज 12 घंटे पहले की गई।

तीनों पार्टियों के विधायकों ने शरद पवार, सोनिया गांधी और उद्धव ठाकरे के नाम पर शपथ ली ।और कहा कि वे किसी इस शपथ के प्रति निष्ठावान रहेंगे, किसी लालच में नहीं पड़ेंगे और गठबंधन के प्रति इमानदार बनें रहेंगे। इन विधायकों ने शपथ ली कि वे बीजेपी को समर्थन नहीं करेंगे.। न ही अपनी पार्टी के खिलाफ काम करेंगे और पार्टी आलाकमान का आदेश मानेंगे।

पवार बोले- महाराष्ट्र के लिए हम एक साथ हैं

राज्य में सरकार गठन पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश राकांपा प्रमुख शरद पवार ने विधायकों को संबोधित करते हुए कहा, "हम महाराष्ट्र के लोगों के लिए एक साथ हैं। राज्य में बहुमत के बिना सरकार बनाई गई। कर्नाटक, गोवा और मणिपुर में भाजपा के पास कहीं भी बहुमत नहीं था, लेकिन सरकार बनाई।" होटल ग्रांड हयात में तीन दलों का जमावड़ा हुआ।

पवार ने विश्वास व्यक्त किया कि विधान सभा में फ्लोर-टेस्ट में गठबंधन को 162 से अधिक विधायकों का समर्थन प्राप्त होगा और यह सरकार बनाएगी और लोगों के हित में काम करेगी "हमारे बहुमत को साबित करने में कोई समस्या नहीं होगी पवार ने कहा, "जो पार्टी से निलंबित है, वह कोई आदेश नहीं दे सकता है। फ्लोर टेस्ट के दिन, मैं 162 से अधिक विधायकों को लाऊंगा। यह गोवा नहीं है, यह महाराष्ट्र है।" पवार ने कहा, "हम महाराष्ट्र के लोगों के लिए एक साथ हैं। राज्य में बहुमत के बिना एक सरकार का गठन किया गया। कर्नाटक, गोवा और मणिपुर में भाजपा के पास कहीं भी बहुमत नहीं था, लेकिन सरकार बनाई।"


इसे भी पढ़ें

महाराष्ट्र के सियासी रस्साकशी के अहम पेंच क्या हैं?

राष्ट्रपति शासन के खतरे को भांपकर शिवसेना, NCP और कांग्रेस ने पेश किया सरकार गठन का दावा

उद्धव ठाकरे बोले- हमारी लड़ाई सिर्फ सत्ता के लिए नहीं

" शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे "उद्धव ठाकरे ने कहा:" हमारी लड़ाई सिर्फ सत्ता के लिए नहीं है, हमारी लड़ाई 'सत्यमेव जयते' के लिए है। जितना आप हमें तोड़ने की कोशिश करेंगे, उतना ही हम एकजुट होंगे। "इकट्ठे विधायकों ने भी" ऐसा कुछ भी न करने का संकल्प लिया, जिससे बीजेपी को फायदा हो। "" मैं शपथ पवार, उद्धव ठाकरे और उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शपथ लेता हूं। सोनिया गांधी, मैं अपनी पार्टी के प्रति ईमानदार रहूंगा। मुझे किसी चीज का लालच नहीं होगा। मैं ऐसा कुछ नहीं करूंगा, जिससे बीजेपी को फायदा हो।

ये नेता रहे मौजूद

162 विधायकों की परेड के दौरान 'महा विकास अगाडी' में शामिल शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस के प्रमुख नेता शरद पवार, सुप्रिया सुले, संजय राउत, अशोक चव्हाण, नवाब मलिक, जितेंद्र अहवद, आदित्य ठाकरे और अन्य मौजूद रहे।

नवगठित सरकार के बहुमत के दावे के खिलाफ एकजुटता दिखाने के लिए परेड के बाद संयुक्त फोटो-सेशन भी हुआ। इससे एक दिन पहले तीनों पार्टियों के नवनिर्वाचित विधायकों का परस्पर परिचय कराया गया था।

Advertisement
Back to Top