मुंबई : महाराष्ट्र में सियासी रस्साकस्सी के बीच भाजपा ने बाजी मारते हुए एनसीपी के अजित पवार के साथ मिलकर सरकार बना ली है। इस उलटफेर के बाद एनसीपी चीफ शरद पवार और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे है। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस शामिल नहीं हुए हैं।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में एनसीपी चीफ शरद पवार ने सफाई देते हुए कहा कि तीनों दलों ने सरकार बनाने का फैसला लिया था । लेकिन अजित पवार के डिप्टी सीएम बनने का अचानक पता चला।यह अजित पवार का निजी फैसला है।

उन्होंने कहा कि अजित पवार का फैसला NCP की विचारधार के खिलाफ है और एनसीपी उसका समर्थन नहीं करता है। अजित पवार का फैसला पार्टी के खिलाफ है। अजित पवार ने खुद समर्थन का फैसला लिया है।

शरद पवाल ने यह भी कहा कि कुछ विधायक भाजपा के साथ गए हैं। अजीत पवार के पास 54 विधायकों के हस्ताक्षर वाली लिस्ट है। अजित के साथ गए कुछ विधायकों ने हमसे संपर्क किया था। मुझे कोई चिंता नहीं है मेरे साथ पहले भी ऐसा हो चुका है। हम सब एकजूट रहेंगे।

वहीं उद्धव ठाकरे ने कहा कि जो खेल चल रहा है उसे पूरा देश देख रहा है। वे लोग सदन में बहुमत साबित नहीं कर पाएंगे। शिवसेना जो भी करता है डंके के चोट पर करता है। हम जो करते हैं दिन के उजाले में करते हैं। वो लोगों को तोड़ते हैं हम लोगों को जोड़ते हैं।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में राजेंद्र शिंगने ने कहा कि हम सब शरद पवार के साथ हैं। हमें शपथ ग्रहण का बिल्कुल भी अंदाजा नहीं था।