महाराष्ट्र : पवार के साथ NCP विधायकों की बैठक खत्म, रिसोर्ट  ले जाने की तैयारी 

जयंत पाटिल को एनसीपी के विधायक दल का नेता चुना गया है। - Sakshi Samachar

मुंबई : महाराष्ट्र के बदले सियासी हालात के बीच एनसीपी की बैठक खत्म हो गई है। एनसीपी चीफ शरद पवार ने वाईबी सेंटर में अपने विधायकों की मीटिंग बुलाई थी। इस बैठक में एनसीपी चीफ शरद पवार ने अपने भतीजे अजीत पवार के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की। उन्हें एनसीपी ने विधायक दल के नेता के पद से हटा दिया है। अजित की जगह जयंत पाटिल को पार्टी के नए विधायक दल के नेता के रूप मे चुना गया है।


पांच विधायकों से संपर्क नहीं साध सके पवार

मीटिंग को लेकर एनसीपी नेता नवाब मलिक ने मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि मीटिंग में यह प्रस्ताव पारित किया गया कि पार्टी अजित पवार के निर्णय से सहमत नहीं है। उन्होंने कहा कि जब तक नया नेता नहीं चुना जाता, सभी अधिकार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल को सौंपने का निर्णय लिया गया।

उन्होंने गैर भाजपा सरकार बनने का विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि राज्यपाल को भ्रमित कर सरकार का गठन कराया गया। एनसीपी, कांग्रेस, शिवसेना, कुछ अन्य छोटे दल और निर्दलीय विधायकों को मिलाकर बहुमत हमारे साथ है। उन्होंने कहा कि पांच विधायकों से संपर्क नहीं हो सका।

पार्टी नेताओं को होटल में किया गया शिफ्ट

बैठक खत्म होते ही सुप्रिया सुले से लेकर तमाम नेता मीटिंग से बाहर निकले। इस दौरान एनसीपी के सभी विधायक बस में बैठकर वर्ली के लिए रवाना हो गए। खबर है कि सभी विधायकों वर्ली के एक होटल में ठहराया जाएगा। एनसीपी ने यह कदम एहतियायतनवश वश उठाया है।

शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के विधायकों की कराई जाएगी परेड

महाराष्ट्र में सियासी लड़ाई का रुख एक बार फिर से बदलता दिख रहा है. शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी ने राज्यपाल के सामने अपने  विधायकों की परेड कराने की तैयारी कर ली है। वहीं, एनसीपी चीफ शरद पवार की अपनी पार्टी के विधायकों के साथ बैठक खत्म हो गई है। सुप्रिया सुले भी वाई बी सेंटर से रवाना हो गई है।

मुंबई में ही रहेंगे शिवसेना विधायक

iमुंबई में ही रहेंगे शिवसेना विधायकशिवसेना के विधायक सियासी घमासान के बीच मुंबई में ही रहेंगे. पार्टी विधायक मुंबई से बाहर नहीं जाएंगे. गौरतलब है कि कांग्रेस विधायकों को जयपुर भेजे जाने की चर्चा है.

शरद पवार ने अहमद पटेल और उद्धव ठाकरे से की बात

एनसीपी सूत्रों के अनुसार शरद पवार ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और अशोक चव्हाण के साथ ही शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से बात की है। पवार ने इन नेताओं से कहा कि सब कंट्रोल में है।


विधायक दल से बर्खास्त किए अजीत पवार

महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी के साथ हाथ मिलाने एवं प्रदेश के उपमुख्यमंत्री के रूप में शनिवार को शपथ लेने के बाद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने विधायक दल के नेता अजित पवार को पद से बर्खास्त कर दिया है । सूत्रों ने आज यहां इसकी जानकारी दी । पार्टी के सूत्रों ने बताया, ‘‘राकांपा के विधायकों की यहां बैठक में अजित पवार को पद से बर्खास्त करने का निर्णय किया गया ।'' इस बैठक में राकांपा प्रमुख शरद पवार भी मौजूद थे। अजित की जगह जयंत पाटिल को पार्टी के नए विधायक दल के नेता के रूप मे चुना गया है।


मीटिंग में पहुंचे 50 विधायक : सूत्र

एनसीपी के शीर्ष सूत्रों ने बताया कि मुंबई में वाईबी चव्हाण केंद्र में एनसीपी प्रमुख शरद पवार के साथ बैठक में कुल 50 विधायक मौजूद हैं। इस बैठक में एनसीपी के नेता धनंजय मुंडे भी पहुंचे हैं। अजीत पवार सहित एनसीपी के 4 विधायक अभी तक बैठक में नहीं आए हैं। उनके शीघ्र ही बैठक में आने की उम्मीद है। सभी विधायकों को मुंबई के एक होटल में रखा जाएगा।

बैठक में पहुंची एनसीपी विधायक सुमन ताई

पवार की बैठक में पहुंचीं सुमन ताई पाटिलशरद पवार की बैठक में अब एक और विधायक पहुंच गई हैं। तासगांव से विधायक सुमन ताई पाटिल दिवंगत आरआर पाटिल की पत्नी हैं।

उद्धव ने अपने विधायकों से पूछा- क्या आप डरे हुए हैं ?

दूसरी तरफ शिवसेना विधायकों के साथ उद्धव ठाकरे की होटल ललित में बैठक शुरू हो चुकी है। इस दौरान उद्धव ठाकरे ने अपने विधायकों से पूछा कि क्या आप डरे हुए हैं, उस पर विधायकों ने जवाब देते हुए कहा कि नहीं डरे नहीं हैं।

बैठक को संबोधित करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि शांत रहे शिवसेना का सपना जरूर पूरा होगा। उद्धव ने अपने विधायकों से कहा कि हालात जरूर बदल गए हैं लेकिन हम पर असर नहीं पड़ेगा। महाराष्ट्र में सरकार शिवसेना ही बनाएगी। कहा एनसीपी और कांग्रेस हमारे साथ हैं।

विधायक बोले- हम शरदपवार के साथ

एनसीपी विधायक अतुल बेनके ने कहा कि हम शरद पवार के साथ हैं। हम सभी एक साथ हैं।


राकांपा कार्यकर्ताओं ने अजित पवार पर धोखा देने का आरोप लगाया

भाजपा के साथ सरकार में शामिल होने पर राकांपा नेता अजित पवार के खिलाफ पार्टी कार्यकर्ताओं ने यहाँ नारेबाजी की। गुस्साए कार्यकर्ताओं ने अजित पवार के चित्र पर जूते भी फेंके। विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व ठाणे नगर पालिका में राकांपा के नेता मिलिंद पाटिल ने किया।

विरोध प्रदर्शन में महिलाओं ने भी भाग लिया। पाटिल ने कहा, “(अजित) पवार ने महाराष्ट्र की जनता, राकांपा और पार्टी प्रमुख शरद पवार को धोखा दिया।” जिले के कल्याण में भी ऐसा ही विरोध प्रदर्शन हुआ। इसी बीच शहर में स्थित भाजपा कार्यालय में एक अजीब सी शांति छाई रही। एक स्थानीय भाजपा नेता ने कहा कि पार्टी के नेतृत्व ने उन्हें बहुमत साबित करने तक शांत रहने को कहा है।

लगभग 5 बजे शुरू हुई एनसीपी की बैठक

महाराष्ट्र में शनिवार सुबह सबको चौंकाते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अजीत पवार ने उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले ली। बीजेपी के इस कदम से अब हर किसी के दिल की धड़कने तेज हो गई है कि अब आखिर आगे क्या होगा।

अजित पवार को पार्टी से किया जाएगा बेदखल : सूत्र

मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों की हवाले से खबर है किराष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने अजित पवार को विधायक दल के नेता पद से हटाने का मन बना लिया है। इसके अलावा एनसीपी ने अजीत पवार के समर्थन करने वाले सभी विधायकों को भी पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा सकती है। इसको लेकर शाम चार बजे बैठक होने वाली है। खबर है कि थोड़ी ही देर पार्टी नए विधायक दल का नेता चुनेगी।

विधायक दल का नया नेता चुना जाएगा- शरद पवार

महाराष्ट्र में राजनीतिक घटनाक्रम के बीच एनसीपी नेता शरद पवार, शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे ने मीडिया को संबोधित किया। शरद पवार ने कहा, आज की बैठक में विधायक दल का नया नेता चुना जाएगा। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि राज्यपाल ने उन्हें बहुमत साबित करने का वक्त दिया होगा. लेकिन वे इसे साबित नहीं कर पाएंगे। इसके बाद हम तीनों पार्टियां मिलकर सरकार बनाएंगे, जैसा कि हमने तय किया है।

इसे भी पढ़ें

महाराष्ट्र में नयी सरकार : किसने किसको क्या कहा...!

महाराष्ट्र में बड़ा सियासी उलटफेर, फडणवीस फिर बने CM, अजित पवार डिप्टी सीएम

शपथ ग्रहण देख मैं खुद आश्चर्य में था : पवार

इस दौरान शरद पवार ने साफ कर दिया कि अजित पवार के भाजपा को समर्थन देने के फैसले में उन्हें कोई जानकारी नहीं थी। पवार ने कहा कि अजित पवार कुछ विधायकों के साथ राजभवन पहुंचे, हमें इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी। अजित का फैसला पार्टी लाइन के खिलाफ है और अनुशासनहीनता को बताता है। हम उनके खिलाफ कार्रवाई करेंगे। हमें पता चला है कि 10-12 विधायक उनके पास हैं।

Advertisement
Back to Top