रांची : झारखंड विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए 13 सीटों पर नामांकन प्रक्रिया बुधवार को खत्म हो गई। पहले चरण की 13 सीटों पर 30 नवंबर को वोट डाले जाएंगे। पहले चरण में मुकाबले को लेकर भवनाथपुर सीट काफी चर्चा में है। दरअसल यहां से एक पति -पत्नी दोनों निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं।

एक साथ किस्तमत आजमाना चाहते हैं पति पत्नी

चुनावी मैदान अपनी किस्मत आजमाने वाले मनीष इस क्षेत्र में पिछले 4 वर्ष से एक्टिव हैं। पति को चुनावी मैदान में उतरता देख उनकी पत्नी ने भी इस बार अपनी किस्मत आजमा रही हैं। मनीष ने चुनावी हलफनामे में खेती और बिजनेस को आय का जरिया बताया है।इसके अलावा मनीष एक एजुकेशनल ट्रस्ट भी चलाते हैं। वहीं, प्रियंका ने शपथ पत्र में सिर्फ खेती को ही अपनी आय का साधन बताया।

प्रियंका ने अपने ही पति के खिलाफ चुनाव लड़ा है।
प्रियंका ने अपने ही पति के खिलाफ चुनाव लड़ा है।

इसे भी पढ़ें

जेल में बंद ये दंबग MLA लड़ेगा विधायक का चुनाव, अपने भाभी से की है शादी

मीडिया से बातचीत में मनीष ने बताया कि उन्होंने इंटरमीडिएट की पढ़ाई की है, जबकि उनकी पत्नी बीएड किया हुआ है। इसके बाद साल 2013 में दोनों ने शादी कर ली। दोनों की 4 साल की एक बेटी भी है और करीब 8 साल से गढ़वा में रह रहे हैं। दोनों ही पलामू के रहने वाले हैं

कैसे लिया एक साथ चुनाव का फैसला

एक साथ चुनाव लड़ने के बारे प्रियंका बताती हैं कि एक ही सीट से चुनाव लड़ने का प्लान बस बातों ही बातों में हो गया। वे (मनीष) शुरू से चुनाव लड़ना चाह रहे थे। उन्होंने ही मुझसे कहा-अगर आप भी चुनाव लड़ना चाहती हैं तो नामांकन करिए। अब दोनों शिक्षा और रोजगार के नाम पर लोगों से संपर्क करके वोट मांग रहे हैं। दोनों का कहना है कि वो चुनाव में एक-दूसरे के खिलाफ जरूर खड़े हैं पर एक दूसरे के विरोधी नहीं हैं।