मुंबई : महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की घोषणा के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने प्रेस कांफ्रेंस की। उद्धव ठाकरे ने कहा, भाजपा को 48 घंटे का समय दिया गया। लेकिन शिवसेना को 24 घंटे का वक्त दिया। हमें पूरा वक्त नहीं दिया गया। हमने राज्यपाल से सरकार बनाने की इच्छा जताई थी।

कांग्रेस और एनसीपी ने हमसे संपर्क किया था। कांग्रेस, एनसीपी से हमारी बात चल रही है। महाराष्ट्र जैसे राज्य में सरकार बनाना कोई बच्चों का खेल नहीं है। हम राज्यपाल के शुक्रगुजार हैं कि उन्होंने हमें 6 महीने का वक्त दे दिया है। भाजपा ने विकल्प खत्म किया है, हमने नहीं। हम अंधेरे में भाजपा के साथ गए थे।

उन्होंने आगे कहा, 'बीजेपी-शिवसेना कई सालों तक एक साथ थे, लेकिन अब शिवसेना को कांग्रेस-एनसीपी के साथ जाना है। हम दोनों के साथ आगे की बातचीत करेंगे। मैं अरविंद सावंत को धन्यवाद देना चाहता हूं, कई लोगों को मंत्री पद की लालसा है, लेकिन वह ऐसे नहीं है। उन पर गर्व है।'

एनसीपी-कांग्रेस की प्रेस कांफ्रेंस

वहीं, मुंबई में कांग्रेस-एनसीपी की प्रेस कांफ्रेंस में शरद पवार ने कहा- हम महाराष्ट्र में दोबारा चुनाव नहीं चाहते। कांग्रेस से चर्चा पूरी होने के बाद शिवसेना से बात होगी। हमें किसी तरह की जल्दबाजी नहीं है।

इसे भी पढ़ें :

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगा, रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी

जानिए महाराष्ट्र में कब-कब लगा है राष्ट्रपति शासन

एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल ने कहा, दोनों दलों के वरिष्ठ नेताओं ने मौजूदा हालात पर चर्चा की। शिवसेना ने पहली बार कांग्रेस और एनसीपी के साथ आधिकारिक रूप से संपर्क किया था। इतने महत्वपूर्ण मुद्दे को लेकर सभी बिंदुओं पर स्पष्टता होनी चाहिए। आज इसी संदर्भ में बैठक हुई। इसी मुद्दे पर आगे की नीति तय की जाएगी।