तेजस्वी यादव ने चार्टर्ड प्लेन में मनाया जन्मदिन, सोशल मीडिया पर मचा बवाल 

तेजस्वी यादव  - Sakshi Samachar

पटना : राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद के पुत्र और बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने एक दिन पहले ही अपना 30 वां जन्मदिन मनाया है। इस दौरान एक विमान में उनके शाही अंदाज में जन्मदिन मनाने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद तेजस्वी विराधियों के निशाने पर आ गए हैं।

विमान में तेजस्वी के जन्मदिन मनाने की तस्वीरें कहां और कब की हैं, इसकी पुष्टि कोई नहीं कर रहा है, परंतु इसे लेकर बिहार की सियासत गरम हो गई है। आईएएनएस भी इस वायरल तस्वीर की सत्यता की पुष्टि नहीं करता है।

शाही पार्टी की इन वायरल हुई तस्वीरों में तेजस्वी के साथ उनके करीबी संजय यादव और मणि यादव भी दिख रहे हैं, तो साथ ही विमान में तेजस्वी के साथ लालू प्रसाद के विश्वासपात्र भोला यादव भी हैं।

एक तस्वीर में तेजस्वी केक काटते नजर आ रहे है, जबकि अन्य तस्वीरों में कुछ खाते नजर आ रहे हैं। इस तस्वीर के वायरल होने के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि ये तस्वीरें उनकी समाजवाद विरासत की पोल खोल रहा है।

उन्होंने कहा, "युवराज चांदी की चम्मच लेकर पैदा हुए हैं। यह 'परिवार' की पार्टी विचारहीन और बुद्घिहीन है। जिस कथित गरीब गुरबों की राजनीति करने का यह पार्टी दंभ भरती है, यह तस्वीर उनका भी मजाक उड़ाती है।"

इधर, जनता दल (युनाइटेड ) के प्रवक्ता राजीव रंजन ने भी कहा कि लालू प्रसाद ने तेजस्वी को राजनीतिक विरासत की चाभी सौंप दी, यह अलग बात है कि वे इसे संभाल नहीं पा रहे है। उन्होंने कहा कि इन तस्वीरों को देखने के बाद सभी लोग उनकी राजनीति समझ गए होंगे।

इसे भी पढ़ें :

झारखंड में भाजपा को मात देने के लिए इस तरह तैयारी कर रहे तेजस्वी यादव

लालू यादव से टिप्स लेकर तेजस्वी दिखा सकते हैं अपना नया राजनीतिक तेवर..!

इधर, राजद हालांकि तेजस्वी के बचाव में उतार आई है। राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी कहते हैं कि उपचुनाव के परिणाम के बाद विरोधियों को 'तेजस्वीफोबिया' हो गया है। उन लोगों का रक्तचाप बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि क्या गरीब व गरीबों की बात करने वाला जन्मदिन नहीं मना सकता है।

उल्लेखनीय है कि नौ नवंबर को तेजस्वी ने पटना में कार्यकर्ताओं के साथ जन्मदिन मनाया था। इस दौरान उनके बडे भाई तेजप्रताप यादव भी उपस्थित थे और उन्होंने तेजस्वी को उपहारस्वरूप गीता भेंट की थी।

Advertisement
Back to Top