नई दिल्ली : कांग्रेस ने रविवार को दावा किया कि पार्टी की वरिष्ठ नेता प्रियंका गांधी को व्हाट्सएप से एक संदेश प्राप्त हुआ था, जिसमें उन्हें बताया गया था कि उनके फोन के हैक होने की आशंका है। हालांकि, पार्टी ने यह नहीं बताया कि प्रियंका को यह संदेश कब प्राप्त हुआ था।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में सुरजेवाला ने कहा कि प्रियंका गांधी को मैसेजिंग एप (व्हाट्सएप) एक मैसेज मिला था। इसमे बताया गया कि उनके फोन को स्नूपिंग सॉफ्टवेयर से उसी समय निशाना बनाया गया था जब अन्य को सूचित किया गया था।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने फेसबुक के मालिकाना हक वाले मैसेजिंग एप (व्हाट्सएप) से राकांपा नेता प्रफुल्ल पटेल और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को संदेश मिलने के बारे में पूछे जाने पर कहा, ‘‘मैं आपसे कहना चाहता हूं कि प्रियंका गांधी को भी लगभग उसी वक्त व्हाट्सएप से इसी तरह का एक संदेश प्राप्त हुआ था।''

कांग्रेस प्रवक्ता ने पहले सत्तारूढ़ भाजपा पर स्नूपिंग सॉफ्टवेयर के साथ विपक्षी नेताओं को निशाना बनाने का आरोप लगाया था, और कहा कि पार्टी को संदेह है कि सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के कई वरिष्ठ न्यायाधीशों और राजनेताओं की भी जासूसी की गई है।

इसे भी पढ़ें

व्हाट्सएप यूजर्स की इजराइली स्पाईवेयर से जासूसी मामले में सरकार ने मांगा जवाब

व्हाट्सएप जासूसी कांड पर सोनिया का हमला, कहा- नेताओं-पत्रकारों की जासूसी शर्मनाक

हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट ने शुक्रवार को कहा था कि पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रफुल्ल पटेल और लोकसभा के पूर्व सांसद संतोष भारतीय कम से कम 41 व्यक्तियों में शामिल थे, जो इस साल की शुरुआत में व्हाट्सएप हैकिंग का निशाना थे।

अब तक 17 व्यक्तियों, ज्यादातर वकीलों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और पत्रकारों ने पुष्टि की है कि उन्हें व्हाट्सएप के माध्यम से स्पायवेयर द्वारा हमे निशाना बनाया गया था।