मुंबई : राकांपा प्रमुख शरद पवार ने शुक्रवार को कहा कि वह एजेंसी के कार्यालय नहीं जाएंगे जबकि उन्होंने इस सप्ताह की शुरुआत में ईडी कार्यालय जाने की घोषणा की थी। महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक के भ्रष्टाचार से जुड़े धनशोधन मामले में पवार का नाम भी है। मुंबई पुलिस आयुक्त संजय बार्वे ने पवार से उनके आवास पर मुलाकात की और उनसे ईडी नहीं जाने का अनुरोध किया क्योंकि इससे कानून-व्यवस्था की स्थिति पैदा हो सकती है।

पवार ने घोषणा की थी कि वह अपराह्न दो बजे ईडी कार्यालय जाएंगे जबकि एजेंसी ने उन्हें समन जारी नहीं किया है। पवार ने संवाददाताओं से बातचीत के दौरान ईडी की कार्रवाई मामले पर उनका समर्थन करने के लिए शिवसेना और कांगेस का शुक्रिया अदा किया और कहा कि एजेंसी के कदम से ऐसा लगता है कि विपक्षी नेताओं को निशाना बनाया जा रहा है

यह भी पढ़ें :

NCP प्रमुख शरद पवार का ‘पाकिस्तान प्रेम’, कहा- मुझे वहां बहुत सम्मान मिला

पवार का पलटवार- मुझे जेल जाने का एक्सपीरियंस नहीं, अगर कोई भेजना चाहता है तो स्वागत है

ईडी का मामला मुंबई पुलिस की प्राथमिकी पर आधारित है, जिसमें बैंक के निदेशकों, राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार और सहकारी बैंक के 70 पूर्व पदाधिकारियों के नाम हैं।

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री शरद पवार का नाम ईडी की शिकायत में पुलिस एफआईआर के आधार पर शामिल किया गया है।यह मामला ऐसे समय दर्ज किया गया, जब राज्य में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। राज्य में एक चरण में 21 अक्टूबर को विधानसभा की सभी 288 सीटों पर मतदान होगा।