नई दिल्ली : कांग्रेस ने हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार को आर्थिक मंदी, बेरोजगारी, किसानों के साथ विश्वासघात और कानून व्यवस्था की स्थिति से संबंधित मुद्दों पर घेरने की योजना बनाई है।

निर्वाचन आयोग द्वारा हरियाणा विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा किए जाने के तुरंत बाद बात करते हुए राज्य कांग्रेस प्रमुख कुमारी शैलजा ने कहा, "आर्थिक मंदी से निपटने के बजाय भाजपा सरकार ने चुनाव से पहले लोगों को एक बड़ा मुद्दा दिया है।"

उन्होंने कहा, "ऑटो सेक्टर द्वारा छंटनी किए जाने और इकाइयों को बंद किए जाने के बाद लोग कांग्रेस के करीब आए हैं। मारुति सुजुकी ने आर्थिक मंदी के बाद मानेसर इकाई में कोई उत्पादन नहीं करने की घोषणा की है।" आयोग ने शनिवार को 90 सदस्यीय हरियाणा विधानसभा के लिए 21 अक्टूबर को मतदान होने की घोषणा की। चुनाव परिणाम 24 अक्टूबर को घोषित किया जाएगा।

कांग्रेस 2014 के विधानसभा चुनाव में महज 15 सीटें जीत पाई थीं। वहीं 2009 के विधानसभा चुनाव में चार सीटों की तुलना में भाजपा ने 2014 चुनाव में 47 सीटें जीतीं। इस चुनाव में इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) ने 19 सीटें, हरियाणा जनहित कांग्रेस (हजकां) ने दो, और शिरोमणि अकाली दल (शिअद) व बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने एक-एक सीट पर जीत हासिल की। इसके अलावा प्रदेश में पांच निर्दलीय विधायक चुने गए थे।

खट्टर पहले ही राज्य में जन आशीर्वाद यात्रा के रूप में अभियान शुरू कर चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह भी राज्य में रैलियों को संबोधित कर चुके हैं।

हाल ही में अशोक तंवर की जगह कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष बनीं पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी शैलजा ने भाजपा सरकार की निंदा की। उन्होंने कहा, "राज्य में किसान और छोटे व्यापारी संकट में हैं। किसानों को उनकी उपज के बदले पारिश्रमिक मूल्य तक नहीं मिल रहा है। पिछले पांच वर्षों में बेरोजगारी की दर काफी बढ़ गई है।"

यह भी पढ़ें :

प्रियंका गांधी ने नरेंद्र मोदी पर लगाया यह बड़ा आरोप, सबूत भी दिए

महाराष्ट्र-हरियाणा में 21 अक्टूबर को होंगे विधानसभा चुनाव, 24 तारीख को आएंगे नतीजे

उन्होंने कहा, "भाजपा ने फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य को दोगुना करने का वादा किया था, लेकिन इस साल अधिकांश कृषि उपज नहीं खरीदी गई।" शैलजा ने कहा कि जब सरकार ने क्लर्कों के पद के लिए चार से पांच हजार रिक्तियों की घोषणा की तो लगभग 15 लाख युवाओं ने आवेदन किया। इससे पता चला कि बेरोजगारी कितनी बढ़ गई है।

कांग्रेस नेता के मुताबिक, दलित आरक्षण को लेकर लोग गुस्से में हैं। उन्होंने कहा, "सरकार ने पिछले साल कहा था कि क्लास-1 व क्लास-2 की नौकरियों में दलितों को पदोन्नति नहीं मिलेगी।"

इसे भी पढ़ें :

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 : जानिए कौन सा गठबंधन किस पर पड़ेगा भारी

उन्होंने कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को लेकर सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि खट्टर शासन के तहत राज्य में पांच बड़े दंगे हो गए। शैलजा ने खट्टर सरकार के समय अवैध खनन बढ़ जाने आरोप भी लगाया। उन्होंने मुख्यमंत्री खट्टर द्वारा दिए गए विवादास्पद बयानों की भी निंदा की।