हैदराबाद : महाराष्ट्र में नांदेड़ जिले के सीमावर्ती क्षेत्र में रहनेवाले लोगों ने तेलंगाना में शामिल होने की मांग की है। इस मांग के मद्देनजर तेलंगाना राष्ट्र समिती को महाराष्ट्र में चुनाव लड़ने का सुनहरा अवसर मिल रहा है। नांदेड़ जिले में सीमावर्ती क्षेत्र के पांच निर्वाचन क्षेत्रों नायगांव (बा), भोकर, देगलूर, किनवट और हदगांव में तेरास के टिकट पर चुनाव लड़ने के लिए नेता तैयार हैं।

तेलंगाना में अपने गांवो का विलय करने की मांग को लेकर आंदोलन छेडनेवाले नेता और बाभली (धर्माबाद तहसील) के सरपंच बाबूराव, गणपतराव कदम के नेतृत्व में एक दल तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर से मिला। उन्होंने सीएम को एक ज्ञापन सौंपा। केसीआर ने नांदेड़ जिले के इन नेताओं को समर्थन और चुनाव में टिकट देने के विषय में शीघ्र ही निर्णय लेने की बात कही।

आपको बता दें कि नांदेड़ जिले के नेताओं ने केसीआर से ज्ञापन में कहा कि तेलंगाना के सीमवर्ती क्षेत्र के लोगों को सरकार मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करा रही है। कल्याण और विकास योजनाओं का लाभ लोगों को पहुंचाया जा रहा है। किसानों को सिंचाई के लिए चौबीसो घंटे मुफ्त बिजली आपूर्ति की जा रही है। आर्थिक पिछड़ों को प्रति महीने दो हजार रुपये पेंशन दिया जा रहा है। किसानों के लिए बीमा योजना अमल में लाई जा रही है।

इसे भी पढ़ें :

सांसद कविता ने रैतु बंधू योजना के चेक और पट्टा पासबुक किसानों में किए वितरीत

महाराष्ट्र नांदेड़ जिले के सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों को तेलंगाना की तर्ज पर कोई कारगर योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। किसानों को बीमा योजना की सुविधा नहीं। आर्थिक पिछड़ों को केवल प्रति महीने 600 पेंशन है। फसल सिंचाई के लिए केवल आठ घंटे बिजली आपूर्ति का वादा किया गया है। उन्होंने कहा कि वे पांच विधानसभा क्षेत्रों के कांग्रेस, भाजपा, शिवसेना और एनसीपी नेताओें के साथ हैदराबाद आकर विशेष रूप से विचार विमर्श करेंगे।