नई दिल्ली : पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बुधवार को नई दिल्ली में पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। ममता बनर्जी को प्रधानमंत्री का अभिवादन करने के लिए कुर्ता और मिठाई भेट किया। बैठक के बाद ममता बनर्जी ने कहा कि पीएम मोदी के साथ बैठक संतोषजनक और फलदायी रही।

बंगाल आने का दिया न्योता

उन्होंने बीरभूम में कोयला क्षेत्र की परियोजना को हरी झंडी दिखाने के लिए पीएम मोदी को बंगाल आमंत्रित किया। ममता बनर्जी ने कहा, "मैंने पीएम मोदी से पश्चिम बंगाल में आने वाले दुनिया के दूसरे सबसे बड़े कोयला ब्लॉक का उद्घाटन करने का आग्रह किया है।" इसके अलावा उन्होंने कहा कि मैंने राज्य के लिए 13500 करोड़ रुपये की मांग की है।

पीएम मोदी के दूसरे कार्यकाल के लिए सत्ता में आने के बाद यह पहला मौका था, जब ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की। मुलाकात के बाद ममता बनर्जी ने कहा कि उन्होंने पश्चिम बंगाल का नाम बदलकर बंगला रखने के प्रस्ताव से जुड़ा मुद्दा उठाया।इससे पहले, राज्य सरकार ने उसी के बारे में गृह मंत्रालय को एक पत्र लिखा था। टीएमसी प्रतिनिधिमंडल ने पिछले सत्र में इस मुद्दे पर पीएम मोदी से भी मुलाकात की।

इसे भी पढ़ें

पीएम मोदी से आज मुलाकात करेंगी ममता बनर्जी, जानिए आखिर क्या है वजह

ममता बनर्जी ने राज्य में विकास का मुद्दा भी उठाया। ममता बनर्जी ने यह भी कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (पीएसयू) में विनिवेश पर भी पीएम मोदी के साथ चर्चा हुई। ममता बनर्जी ने अपनी इस मुलाकात को चेयर टू चेयर मीटिंग बताया। उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने की इच्छा भी जताई।

ममता बनर्जी ने एनआरसी पर जवाब देते हुए कहा, "पीएम मोदी के साथ एनआरसी पर कुछ भी चर्चा नहीं की गई। भाजपा जहां चाहे वहां राजनीतिक बयान दे सकती है। पीएम मोदी के साथ मेरी मुलाकात राजनीतिक नहीं थी।"