नई दिल्ली : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को स्वास्थ्य विभाग को दिल्ली सरकार के अस्पतालों में वीआईपी संस्कृति को समाप्त करने का निर्देश दिया और कहा कि सभी नागरिकों को समान इलाज मिलेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी के सरकारी अस्पतालों में वीआईपी लोगों के लिए निजी कमरे नहीं होंगे। केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘मैंने स्वास्थ्य विभाग को अस्पतालों में वीआईपी संस्कृति खत्म करने का निर्देश दिया है। वीआईपी लोगों के लिए कोई निजी कमरा नहीं होगा। सभी नागरिकों को समान इलाज मिलेगा, बल्कि यह सबसे अच्छी गुणवत्ता का होगा।''

कुछ अस्पताल हैं जिनमें निजी कमरे हैं जिन्हें कुछ शुल्क पर बुक किया जा सकता है।

इससे पहले अरविंद केजरीवाल ने मोती नगर में सोमवार को दिल्ली सरकार के आचार्य भिक्षु अस्पताल में एक नए ब्लॉक की आधारशिला रखी थी। एक बयान में बताया गया कि केजरीवाल ने कहा है कि नए ब्लॉक से अब बिस्तरों की संख्या 150 से 420 हो जाएगी।

यह भी पढ़ें :

इस मुद्दे पर अब केजरीवाल के साथ खड़ी नजर आ रही हैं शबाना आजमी

केजरीवाल ने दी ‘आयुष्मान भारत’ को चुनौती, इस योजना को बताया सबसे बेहतर

उन्होंने कहा, ‘‘ अगले 15 महीने में लोक कार्य विभाग (पीडब्ल्यूडी) द्वारा इसके निर्माण का कार्य पूरा किया जाएगा।'' बयान में केजरीवाल को यह कहते हुए उद्धृत किया गया है कि इस अस्पताल में इतनी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी कि एक शीर्ष निजी अस्पताल भी इतना मुहैया कराने में सक्षम नहीं है।