कांग्रेस पार्टी दिनों-दिम कमजोर होते अपने जनाधार को मजबूत बनाने के तहत उत्तर प्रदेश में बड़े फेरबदल करने की तैयारी में जुटी है। सूत्रों से मिल रही खबरों की मानें तो उत्तर प्रदेश के प्रभारी के रूप में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को बनाया जा सकता है।

बताया जाता है कि उत्तर प्रदेश के नए प्रभारी के फैसले के बाद ही राज्य के नए कांग्रेस अध्यक्ष का नाम भी तय किया जाएगा। उत्तर प्रदेश की कांग्रेस कमेटी में पिछली बार के मुकाबले इस बार बहुत कम सदस्य हो सकते हैं और ये सभी युवा यानि उनकी आयु 40 वर्ष से कम हो सकती है।

ये सभी जानते हैं कि पिछले लोकसभा चुनाव से ठीक पहले सक्रीय राजनीति में प्रवेश कर चुकी प्रियंका गांधी को कांग्रेस ने उस वक्त महासचिव बनाते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रभारी नियुक्त किया था।

हालांकि लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार के बाद सिंधिया ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया, लेकिन प्रियंका गांधी पार्टी कार्यक्रमों में सक्रीय रहने के साथ ही हार की वजह जानने के लिए उत्तर प्रदेश के हर जिले के नेताओं के साथ बैठके की। इसके अलावा लगातार उत्तर प्रदेश की योगी सरकार और केंद्र की मोदी सरकार पर हमले करती रही है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड़ा को उत्तर प्रदेश का पार्टी प्रभारी की घोषणा के बाद वह पूरे राज्य में एक मुहिम के तहत चालू वर्ष में पार्टी एक करोड़ लोगों को सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा गया है। बताया जाता है कि प्रियंका गांधी इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए राज्य के सभी जिलों व क्षेत्रों का दौरा करते हुए किसान समस्याओं के लिए आंदोलन चलाएगी।

इसे भी पढ़ें :

प्रियंका गांधी का रायबरेली दौरा, पूर्व कांग्रेस विधायक के परिजनों से की मुलाकात

यही नहीं, सोनभद्र की मॉब लिंचिंग मामले को प्रियंका गांधी ने योगी सरकार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी। प्रियंका ने सोनभद्र पहुंच खुद घटना जानकारी हासिल करने की कोशिश की थी, लेकिन प्रशासन ने उन्हें मिर्जापुर में रोक कर उन्हें घटनास्थल पर नहीं जाने दिया।