बेंगलुरू : कर्नाटक के मुख्यमंत्री का पदभार ग्रहण करने के करीब एक महीने बाद बीएस येदियुरप्पा ने मंगलवार को अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया, जिसमें 17 विधायकों को शामिश किया गया।

एक समारोह में 17 विधायकों को शामिल किया गया, जिसमें एक निर्दलीय भी शामिल हैं। एक अधिकारी ने कहा, "राज्य के राज्यपाल वजुभाई वाला ने राजभवन में 17 सांसदों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।"

कन्नड़ में शपथ लेने वाले विधायकों के नाम हैं गोविंद करजोल, सी.एन. अश्वथ नारायण, लक्ष्मण सावदी, के.एस.ईश्वरप्पा, आर अशोक, जगदीश शेट्टार, बी श्रीरामुलु, एस. सुरेश कुमार, वी. सोमन्ना, सी. टी. रवि, बसवराज बोम्मई, कोटा श्रीनिवास पूजारी, जे.सी.मधु स्वामी, चंद्रकांतगौड़ा पाटिल, एच. नागेश, प्रभु चौहान और जॉली शशिकला अन्नासाहेब। जॉली कैबिनेट में एकमात्र महिला हैं।

17 में से 16 विधायक भाजपा के हैं और एक, एच. नागेश, मुल्बगल विधानसभा सीट से निर्दलीय विधायक हैं। भाजपा के 16 सांसदों में से, पूजारी राज्य विधान परिषद में पार्टी के नेता हैं। सत्ताधारी पार्टी के सदस्यों में से चार नारायण, स्वामी, चौहान और जॉली पहली बार मंत्री बने हैं।

इससे पहले, पार्टी के अधिकारी जी मधुसूदन ने बताया, "हमारी पार्टी हाईकमान ने 17 विधायकों की सूची को कैबिनेट में शामिल करने की मंजूरी दी।"

येदियुरप्पा के 26 जुलाई को मुख्यमंत्री बनने के बाद उनके मंत्रिमंडल का यह पहला विस्तार है। उन्होंने 29 जुलाई को विधानसभा में अपनी सरकार का बहुमत साबित किया था।

यह भी पढ़ें :

कर्नाटक फोन टैपिंग मामले की जांच करेगी सीबीआई, JDS पर लगे गंभीर आरोप

कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले इस विधायक ने खरीदी 11 करोड़ की कार, जानिए इनके बारे में

बीस दिनों तक एक सदस्यीय मंत्रिमंडल के साथ सरकार चलाने के बाद मुख्यमंत्री 20 अगस्त को उसका विस्तार करने के लिए शनिवार को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मंजूरी हासिल कर पाए। राज्यपाल वजूभाई वाला मंगलवार को साढ़े दस बजे राजभवन में नये मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलायेंगे।

येदियुरप्पा ने सोमवार को पहले कहा था, ‘‘मंत्रिमंडल का विस्तार कल सुबह साढ़े 10 से साढ़े 11 बजे के बीच किया जाएगा। मैंने इस संबंध में पहले ही राज्यपाल को पत्र लिखा है। मैंने मुख्य सचिव से सभी इंतजाम करने को कहा है।'' उन्होंने कहा कि विस्तार के बाद मंत्रिमंडल की एक बैठक भी होगी। मंत्रिमंडल में कौन कौन शामिल किये जायेंगे, इस पर कोई स्पष्टता नहीं होने के कारण आकांक्षी और प्रदेश भाजपा नेतृत्व पार्टी आलाकमान से स्पष्ट निर्देश का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।