नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश में संघर्ष कर रही कांग्रेस जल्द ही बड़ा फैसला कर सकती है। बताया जा रहा कि प्रियंका गांधी को लेकर कांग्रेस नया रणनीति बना रही है। प्रियंका गांधी वाड्रा को जल्द ही कांग्रेस उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित कर सकती है।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव साल 2022 में होने हैं, लेकिन कांग्रेस की रणनीति है कि समय से पहले ही जनता के सामने एक मजबूत चेहरा देकर भाजपा को चुनौती दी जाए। साथ ही भाजपा के मुकाबले मुख्य विपक्षी दल की भूमिका में कांग्रेस को पेश किया जाए।

लोकसभा चुनाव हारने के बाद प्रियंका गांधी ने सोनभद्र नरसंहार और उन्नाव रेप कांड के मुद्दे को लेकर जमीन पर संघर्ष करती नजर आईं। इस मामले में उन्होंने सपा और बसपा को भी पीछे छोड़ दिया।

दोबारा सोनभद्र के उम्भा गांव पहुंचकर प्रियंका गांधी ने अपनी रणनीति साफ कर दी कि वह आने वाले दिनों में छोटे से छोटे मुद्दे को लेकर जमीन पर संघर्ष करती नजर आएंगी।

आपको यह भी बता दें कि कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव के बाद उत्तर प्रदेश की सभी जिला और शहर इकाइयों को भंग कर दिया है। साथ ही प्रदेश में मीडिया प्रभारियों को भी डिबेट में शामिल होने पर मनाही है। सोनिया गांधी ने अंतरिम अध्यक्ष चुने जाने के बाद अब उम्मीद जगी है कि यूपी में जल्द ही नए चेहरों को नियुक्ति होगी।

इसे भी पढ़ें :

सोनिया गांधी के कमान संभालते ही एक्शन में प्रियंका, उठाया पहला कदम

सोनिया गांधी बनीं अंतरिम अध्यक्ष तो BJP ने इस VIDEO के जरिए उड़ाया मजाक

कांग्रेस की रणनीति

विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस बूथ कमेटी को मजबूत करने की सोच रही है। इसके लिए पार्टी प्रियंका गांधी को अभी से ही मुख्यमंत्री चेहरे के रूप में पेश कर सकती है। पार्टी के निशाने पर मुस्लिम और सवर्ण मतदाता हैं। रणनीति यह है कि मुस्लिम और सवर्ण मतदाताओं के सामने कांग्रेस को भाजपा के विकल्प के तौर पर पेश किया जाए। पार्टी की सोच है कि आने वाले दिनों में सवर्ण मतदाता भाजपा से नाराज होकर कांग्रेस की तरफ ही रुख करेंगे। इसलिए पार्टी ने प्रियंका को यूपी में सक्रियता बढ़ाने को कहा है।

कांग्रेस का यह है प्लान

कहा जाता है कि केंद्र की सत्ता तक पहुंचने के लिए यूपी में चुनावी जीत हासिल करना जरूरी है। लेकिन कांग्रेस प्रदेश में हाशिए पर है। रायबरेली सीट को छोड़कर पार्टी के खाते में एक भी लोकसभा सीट नहीं है। लिहाजा कांग्रेस की रणनीति है कि ढाई साल पहले से ही बूथ को मजबूत बनाया जाए। इसके लिए चुनाव संचालन समिति का अध्यक्ष और मुख्यमंत्री उम्मीदवार की घोषणा पहले ही कर दी जाए। इतना ही नहीं ये दोनों जिम्मेदारी प्रियंका को ही सौंपने का फैसला लिया गया है।

उत्तर प्रदेश में और सक्रिय होंगी प्रियंका गांधी

प्रियंका गांधी को यूपी में सक्रियता बढ़ाने की सलाह दी गई है। प्रियंका गांधी को कहा गया है कि छोटे से छोटे मुद्दे पर प्रतिक्रिया देने, जमीन पर संघर्ष करने और जरूरत पड़ने पर जेल भी जाने को तैयार रहें।

एक कांग्रेसी नेता ने कहा कि वर्तमान में भी यूपी की कमान प्रियंका के हाथों में ही है। बस इसका औपचारिक ऐलान नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रियंका के नेतृत्व में ही निराश कांग्रेसियों में जान फूंका जा सकता है।