श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी की इस मांग को खारिज कर दिया है। दरअसल उनकी मांग थी कि विपक्ष के नेताओं को जम्मू कश्मीर का दौरा करने की इजाजत दी जाए। इसको लेकर जम्मू कश्मीर राज्यपाल कार्यालय से एक बयान जारी किया गया है। इस बयान में कहा गया है राहुल गांधी विपक्षी दलों के प्रतिनिधि मंडल को कश्मीर के दौरे पर लाकर कश्मीर मुद्दे पर राजनीति करना चाह रहे हैं।

राहुल गांधी सहित अन्य दलों के नेता यहां पहुंचने से यहां अशांति फैलने की संभावना है। यही नहीं आम आदमी के लिए भी नई मुश्किलें पैदा हो सकती हैं। उन्होंने अलगाववादी सहित अन्य नजरबंद नेताओं के साथ बैठक सहित कई शर्तें रखी हैं।

राहुल गांधी संभवत : कश्मीर को लेकर सीमा पार से फैलाई जा रही फर्जी खबरों पर अपनी राय व्यक्त कर रहे हैं, जबकि यहां शांति बनी हुई है और ऐसी कोई अप्रिय घटना नहीं घटी है। राहुल गांधी चाहें तो घाटी के हालात को लेकर मीडिया चैनल को देख सकते हैं जो इससे जुड़ी सही जानकारी मुहैया करा रहे हैं।

बता दें कि राज्यपाल मलिक ने राहुल गांधी से खुद घाटी में आकर हालात देख लेने को कहा था। कांग्रेस नेता ने अगले दिन उन्हें जवाब दिया है। राहुल गांधी ने केंद्र की ओर से अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के बाद कश्मीर में हिंसापूर्ण घटनाएं होने का दावा किया था। इस पर मलिक ने उन्हें कश्मीर आकर हालात देखने के लिए आमंत्रित किया।