पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को झटका देते हुए अपनी राह अलग करने का फैसला कर लिया है। हालांकि वह बिहार में एक साथ गठबंधन में रहेंगे, लेकिन पड़ोसी राज्य झारखंड में जेडीयू भाजपा के साथ चुनाव नहीं लड़ेगी और सभी सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी।

राजधानी पटना में शनिवार को नीतीश कुमार के नेतृत्व में कोर कमिटी की बैठक हुई। बैठक के बाद पार्टी ने ऐलान कर दिया कि वह आगामी झारखंड विधानसभा चुनाव में सभी 81 सीटों पर अपने प्रत्याशी मैदान में उतारेगी।

गौरतलब है कि झारखंड में साल के अंत में विधानसभा चुनाव होना है। नीतीश कुमार के इस फैसले ने एक बार फिर साफ कर दिया है कि एनडीए के इस सहयोगी ने भाजपा से दूरी बनानी शुरू कर दी है। पहले भी कई मौके पर जेडीयू और भाजपा के बीच अनबन की खबर आई थी।

यह भी पढ़ें :

नीतीश कुमार ने ढूंढा भाजपा से अलग होने का रास्ता !

नीतीश कुमार इस JDU नेता को बना सकते हैं अपनी जगह सीएम उम्मीदवार !

अनुमान लगाया जा रहा है कि प्रशांत किशोर के ही कहने पर जेडीयू झारखंड में अलग चुनाव लड़ने को तैयार हुई है। दोनों ही पार्टी के बीच केंद्र में मंत्री पद को लेकर विवाद शुरू हुआ था, जिसके बाद यह मनमुटाव बढ़ता जा रहा है।