बेंगलुरू : कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा ने भले ही सीएम पद की शपथ ले ली हो, लेकिन उनकी मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही है। सोमवार को विधानसभा में भाजपा सरकार का फ्लोर टेस्ट है, उससे पहले स्पीकर ने 14 बागी विधायकों को अयोग्य करार दे दिया है।

विधानसभा स्पीकर केआर रमेश कुमार ने रविवार को कांग्रेस के 11 और जेडीएस के 3 विधायकों को अयोग्य करार दिया है। अब तक कर्नाटक में कुल 17 विधायकों को अयोग्य करार दिया जा चुका है।

वैसे एक दिन पहले येदियुरप्पा को राहत जरूर मिली थी। जेडीएस के विधायक और पूर्व मंत्री जीटी देवगौड़ा ने शुक्रवार को कहा था कि उनकी पार्टी के कुछ विधायकों ने एचडी कुमारस्वामी से कर्नाटक में भाजपा सरकार को बाहर से समर्थन देने की बात कही है। हालांकि उन्होंने कहा कि इस संबंध में पूर्व मुख्यमंत्री अंतिम निर्णय करेंगे।

सत्ता से बाहर होने के केवल चार दिन के भीतर, जेडीएस के विधायक अगले कदम को लेकर विभाजित नजर आ रहे हैं। पार्टी के भविष्य की रणनीति के संबंध में कुमारस्वामी द्वारा शुक्रवार रात बुलाई गई बैठक में विधायकों में मतभेद उभरकर सामने आए।

यह भी पढ़ें :

येदियुरप्पा ने हरे रंग की शॉल ओढ़ ली CM पद की शपथ, जानिए क्यों ?

येदियुरप्पा  ने  ली कर्नाटक के सीएम पद की शपथ, बोले- नहीं होगी प्रतिशोध की राजनीति

आपको बता दें शुक्रवार शाम को कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा ने सीएम पद की शपथ ले ली है। उन्हें राजभवन में राज्यपाल वाजुभाई वाला ने शपथ दिलाई। इससे पहले उन्होंने 17 मई 2018 को कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, लेकिन विधानसभा में बहुमत नहीं होने के चलते उनको महज दो दिन यानी 19 मई को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था।