येदियुरप्पा  ने  ली कर्नाटक के सीएम पद की शपथ, बोले- नहीं होगी प्रतिशोध की राजनीति

बीएस येदियुरप्पा ने चौथी बार कर्नाटक की शपथ ली है। - Sakshi Samachar

नई दिल्ली। कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा ने सीएम पद की शपथ ले ली है। उन्हें राजभवन में वाजुभाई वाला ने शपथ दिलाई। येदियुरप्पा ने शपथ लेने से पहले मंदिर में भगवान की पूजा अर्चना की। इससे पहले उन्होंने 17 मई 2018 को कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, लेकिन विधानसभा में बहुमत नहीं होने के चलते उनको महज दो दिन यानी 19 मई को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

मेरे शासन में प्रतिशोध की राजनीति नहीं होगी : येदियुरप्पा

कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने से पहले भाजपा नेता बी एस येदियुरप्पा ने शुक्रवार को कहा कि उनके शासन के दौरान प्रतिशोध की राजनीति नहीं होगी और वह विपक्ष को साथ लेकर चलेंगे । पद और गोपनीयता की शपथ लेने के लिए राजभवन जाने से पहले भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए येदियुरप्पा ने कहा, ‘‘हमें प्रशासन में अंतर दिखाना होगा। प्रतशोध की राजनीति नहीं होगी और मैं विपक्ष को साथ लेकर चलूंगा ।'' प्रदेश की पूर्ववर्ती कांग्रेस जदएस गठबंधन सरकार पर बरसते हुए येदियुरप्पा ने कहा कि वह ‘‘तुगलक दरबार'' था और उसमें विकास अवरूद्ध हो गया था ।

शुक्रवार को अचानक सरकार के गठन के बारे में भाजपा नेता ने कहा कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह ने उन्हें फोन किया और शपथ के लिए तैयार होने के लिए कहा। ईमानदार प्रशासन देने का वादा करते हुए उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं की भूमिका को भी रेखांकित किया ।

येदियुरप्पा ने कहा, ‘‘पार्टी कार्यकर्ताओं की भूमिका महती है । किसान, मछुआरे, कुम्हार, बुनकर, आदिवासी और वंचित समुदाय को नयी सरकार से बहुत अधिक उम्मीद है ।'' उन्होंने कहा, ‘‘आपके (पार्टी कार्यकर्ताओं) समर्थन के बिना मैं उनकी उम्मीदों को पूरा नहीं कर सकता हूं ।'' कार्यकर्ताओं को संबोधित करने से पहले भाजपा नेता काडु मलेश्वर मंदिर गए । यह मंदिर भाजपा के राज्य मुख्यालय से ठीक पीछे स्थित है ।

31 जुलाई को होगी बहुमत की अग्निपरीक्षा

इससे पहले शुक्रवार सुबह उन्होंने राज्यपाल से मिल सरकार बनाने का दावा पेश किया। इस दौरान उन्होंने राज्यपाल को 105 विधायकों के समर्थन वाला पत्र सौंप दिया है। येदियुरप्पा की अब असली परीक्षा 31 जुलाई को होगी, क्योंकि इस दिन ही उन्हें सदन में बहुमत साबित करना होगा।

स्पीकर का फैसला अहम

अब इस पूरे मामले में स्पीकर का फैसला अहम हो गया है क्योंकि येदियुरप्पा को नई सरकारो को बचाए रखने के लिए जादुई आंकड़े 111 को पार होगा। यह तभी संभव है जब बाकी बचे 12 विधायकों को स्पीकर अयोग्य घोषित कर देते है। अगर ऐसा नहीं होता है तो येदियुरप्पा के लिए फिर से मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं। आपको बता दें कि बृहस्पतिवार को ही स्पीकर ने तीन विधायकों की सदस्यता रद्द कर दी थी।

इसे भी पढें राज्यपाल से मिले येदियुरप्पा, आज शाम लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

कांग्रेस नेता बोले बिना बहुमत के बीजेपी बना रही सरकार

कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने ट्वीट कर बीजेपी पर निशाना साधा है। उनका कहना है कि भाजपा के पास बहुमत नहीं है फिर भी सरकार बना रहे हैं। वहीं कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष दिनेश गुंडूराव ने भी ट्वीट कर बीएस येदियुरप्पा पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि येदियुरप्पा का मुख्यमंत्री बनना असंवैधानिक है, क्योंकि वह होर्स ट्रेडिंग के दम पर सत्ता में आ रहे हैं। इसलिए हम उनके शपथ समारोह का बहिष्कार करेंगे।

Advertisement
Back to Top