बेंगलुरु : कर्नाटक की 14 महीने पुरानी जद-एस-कांग्रेस गठबंधन सरकार मंगलवार को गिरने के बाद भाजपा अपने प्रदेश अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा को विधायक दल के नेता के तौर पर चुनेगी और राज्य में सरकार बनाने का दावा पेश करेगी। पार्टी के एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रवक्ता जी. मधुसुदन ने कहा, "हमारे सभी 105 विधायक आज पार्टी मुख्यालय पर भाजपा के विधायक दल के नेता के रूप में सर्वसम्मति से येदियुरप्पा को चुनने के लिए बैठक करने वाले हैं और इसके बाद वे राज्यपाल वजुभाई वाला से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।"

पार्टी की राज्य इकाई अपनी सहमति दर्ज कराने के लिए भाजपा के संसदीय बोर्ड को भी अपने निर्णय से अवगत कराएगी, ताकि येदियुरप्पा को नया मुख्यमंत्री बनाने की अनुमति मिल सके।

मधुसुदन ने कहा, "जरूरत पड़ने पर येदियुरप्पा राज्य में वर्तमान राजनीतिक स्थिति पर तथा जल्द से जल्द भाजपा द्वारा स्थाई सरकार बनाने की संभावनाओं पर चर्चा करने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तथा कार्यकारी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा से मिलने दिल्ली भी जाएंगे।"

कांग्रेस-जद-एस के 15 बागी विधायकों के अपनी-अपनी विधानसभाओं से इस्तीफा देने के बाद 225 सदस्यीय सदन की संख्या घटकर 210 रह गई, जिसमें बहुमत के लिए 106 सदस्य होने जरूरी हैं।

यह भी पढ़ें :

कर्नाटक में गिरी कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार, भाजपा के समर्थन में पड़े 105 वोट

कुमारस्वामी ही नहीं ये दिग्गज राजनेता भी खा चुके हैं विधायकों और सांसदों से ‘गच्चा’

मधुसुदन ने कहा, "दो निर्दलीय सदस्यों के समर्थन के साथ 107 सदस्य के जरिए हमारी पार्टी सदन में बहुमत साबित करने के लिए विश्वास मत जीत जाएगी।"

भाजपा को बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के एकलौते विधायक एन. महेश के भी उनकी प्रस्तावित सरकार को समर्थन मिलने की उम्मीद है। मंगलवार को सदन में विश्वास मत के परीक्षण के दौरान अनुपस्थित रहने पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया था।

-आईएएनएस