सोनिया के नाम शीला दीक्षित का आखिरी खत आया सामने, इन नेताओं पर लगाए थे गंभीर आरोप 

डिजाइन इमेज - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित का वो आखिरी खत सामने आया है, जो उन्होंने यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखा था। शीला दीक्षित ने अपने आखिरी खत में उन दो नेताओं का जिक्र किया है, जो पार्टी को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं।

शीला दीक्षित ने सोनिया गांधी को जो चिट्ठी लिखी थी उसके अनुसार, कांग्रेस नेता अजय माकन और पीसी चाको कई ऐसे फैसले कर रहे हैं, जो पार्टी के लिए खतरनाक है।

शीला दीक्षित ने लिखा था, 'मैं दिल्ली कांग्रेस को मजबूत करने के लिए फैसले ले रही हूं, लेकिन पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन के इशारे पर चलकर प्रभारी पीसी चाको बेवजह कदम उठा रहे हैं। अजय माकन पीसी चाको को गुमराह कर रहे हैं, जिससे पार्टी का कार्य प्रभावित हो रहा है।

उन्होंने खत में आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करने के फैसले का भी जिक्र किया। शीला दीक्षित ने लिखा था, आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करने के फैसले पर अड़ंगा जबरदस्ती लगाया गया था। जबकि अजय माकन के कहने पर पीसी चाको गठबंधन करना चाहते हैं। हालांकि लोकसभा चुनाव के नतीजों से स्पष्ट हो गया कि आप के साथ गठबंधन उचित नहीं था और हम दिल्ली में तीसरे से दूसरे नंबर की पार्टी बन गए।

यह भी पढ़ें :

“खत्म हुई नवजोत सिंह सिद्धू की राजनीतिक पारी”

IAS अफसर से शादी करके शीला कपूर से बन गयीं ‘दीक्षित’, ऐसे संभाली ससुर की विरासत

बता दें शीला दीक्षित ने सोनिया गांधी को यह पत्र 8 जुलाई को लिखा था। इसके बाद शीला दीक्षित, अजय माकन और पीसी चाको की कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ एक बैठक हुई और सब कुछ ठीक होने की बात भी सामने आई थी।

गौरतलब है कि दिल्ली की दिल्ली की तीन बार मुख्यमंत्री रह चुकीं शीला दीक्षित का 81 साल की उम्र में शनिवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। शीला दीक्षित ने 1998 से 2013 तक दिल्ली में सरकार चलाई।

Advertisement
Back to Top