नई दिल्ली : जब से कांग्रेस पार्टी के नेता नवजोत सिंह सिद्धू, अमरिंदर सिंह के कैबिनेट से आउट हुए हैं तब से उनको लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। किसी का यह मानना है कि वह जल्दी ही कांग्रेस पार्टी से भी अलग हो जाएंगे पर कुछ लोगों का यह कहना है कि पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी सिद्धू के लिए एक नई योजना बना रही हैं, अगर सब कुछ ठीक रहा तो सिद्धू, प्रियंका के साथ मिलकर उनकी नई योजना को साकार करने का काम करेंगे।

राजनीतिक गलियारों में यह पाठ जोर-शोर से गूंज रही है कि प्रियंका गांधी के अलावा किसी और को कांग्रेस पार्टी का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया जाना काफी मुश्किल लग रहा है। एक वर्ग प्रियंका गांधी के पक्ष में खड़ा होकर उनके नाम की जोर शोर से पैरवी कर रहा है, अगर ऐसा हुआ तो नवजोत सिंह सिद्धू के बारे में प्रियंका गांधी अहम फैसला ले सकती हैं, और उन्हें ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी में एक अहम ओहदा देकर उनके रोल को पार्टी के अंदर बढ़ाने के साथ-साथ उनके प्रचार प्रसार के तरीके को राष्ट्रीय स्तर पर भुनाने की कोशिश कर सकती हैं।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सिद्धू ने उस समय इस्तीफा दिया है, जब कांग्रेस पार्टी के अंदर खुद अध्यक्ष को लेकर घमासान मची हुई है और कुछ नेता पार्टी के अध्यक्ष पद पर अपनी ताजपोशी चाहते हैं, तो वहीं कुछ लोग गांधी नेहरू परिवार के लोगों को ही इस पद पर बने रहने की बात कह रहे हैं। ताकि कांग्रेस पार्टी को टूटने या बिखरने से बचाया जा सके। ऐसी स्थिति में यह माना जा रहा है कि सिद्धू वेट एंड वॉच की स्थिति में रहेंगे और प्रियंका गांधी उनके बारे में नया अध्यक्ष चुने जाने के बाद कोई बड़ी भूमिका देकर उनको राष्ट्रीय राजनीति में लाने की पहल शुरू करेंगे।

इसे भी पढ़ें :

यह है नवजोत सिंह सिद्धू और अमरिंदर सिंह के विवाद की असली वजह, इस्तीफे के बाद नई तैयारी

नवजोत सिंह सिद्धू अब कहां ठोकेंगे ताली, अमरिंदर सिंह आज ले सकते हैं इस्तीफे पर फैसला

भले ही सिद्धू को आउट करके अमरिंदर सिंह अपने आप को खुश महसूस कर रहे हो लेकिन यह बात सच है कि नवजोत सिंह सिद्धू का पंजाब में जनाधार भी है और उनकी छवि का पार्टी को लाभ भी मिलता रहा है।

हालांकि कुछ मामलों पर सिद्धू के बड़बोलेपन या उनकी साफगोई का पार्टी को नुकसान भी हुआ है, लेकिन नुकसान और फायदे की बात का जब मूल्यांकन करेंगे तो सिद्धू से कांग्रेस पार्टी को फायदा ही होने की उम्मीद ज्यादा है। इसलिए सिद्धू को पार्टी से बाहर निकालकर कांग्रेश पार्टी अपने लिए नई मुसीबत नहीं खड़ा करना चाहेगी। क्योंकि पार्टी से अलग होते ही सिद्धू या तो केजरीवाल के खेमे में खड़े हो जाएंगे या फिर राज्य स्तर पर कोई नया दल या संगठन बनाकर कांग्रेस पार्टी के साथ साथ भारतीय जनता पार्टी को भी चुनौती देने की कोशिश करेंगे। ऐसे में कांग्रेस पार्टी और ज्यादा कमजोर होती जाएगी।

इसलिए यह माना जा रहा है कि सिद्धू को प्रियंका गांधी ने अगले कुछ दिनों तक वेट एंड वॉच की स्थिति में बने रहने के लिए कहा है। इसलिए नवजोत सिंह सिद्धू इस्तीफा देने के बाद अपना मकान भी खाली कर दिया। साथ ही मीडिया से मुखातिब होकर कोई भी बात नहीं कह रहे हैं, बल्कि उन्हें जो कुछ भी कहना होता या जानकारी देनी होती है तो वह केवल ट्वीट करके अपनी बात रख देते हैं।