बेंगलुरू : कर्नाटक विधानसभा में आज मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी की अग्नि परीक्षा है। विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होना है। अब सरकार बचेगी या गिरेगी किसी को नहीं मालूम, लेकिन इन सब के बीच जेडीएस और कांग्रेस ने अपना अंतिम दांव चल दिया है।

फ्लोर टेस्ट से पहले कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने बयान दिया है कि सरकार बचाने के लिए जेडीएस किसी भी त्याग के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि ऐसे में कांग्रेस की ओर से किसी को मुख्यमंत्री बनाने के लिए भी तैयार हैं। विश्वास मत से पहले डीके शिवकुमार के इस बयान से राजनीति में हलचल तेज हो गई है।

गौरतलब है कि जब कांग्रेस विधायकों ने इस्तीफा देना शुरू किया तो सरकार पर संकट आ गया। बागी विधायकों में से कई का कहना था कि अगर सिद्धारमैया राज्य की कमान संभालते हैं तो वह अपना इस्तीफा देने का फैसला वापस ले सकते हैं और सरकार को समर्थन कर सकते हैं।

कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस सरकार का फैसला आज विधानसभा में विश्वासमत से होने की संभावना है। वहीं मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने बागी विधायकों से वापस लौटने और सदन में चर्चा के दौरान भाजपा को ‘‘बेनकाब'' करने की अपील की।

हालांकि बागी विधायकों ने सत्र में हिस्सा लेने की संभावना खारिज की। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा ने भरोसा जताया है कि सोमवार कुमारस्वामी सरकार का आखिरी दिन होगा।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री केवल समय हासिल करने का प्रयास कर रहे हैं। गठबंधन के विधायकों के इस्तीफों के बाद एच डी कुमारस्वामी नीत सरकार ने 19 जुलाई को बहुमत साबित करने के लिए राज्यपाल वजुभाई वाला द्वारा दी गई दो समय-सीमाओं का पालन नहीं किया था।

इसे भी पढ़ें :

कुमारस्वामी की अग्नि परीक्षा आज, विधानसभा में हासिल करना होगा विश्वास मत

कर्नाटक में सत्ता संग्राम अंजाम के करीब, येदियुरप्पा बोले- कुमारस्वामी के लिए सोमवार होगा आखिरी दिन

वहीं कांग्रेस-जेडीएस सरकार से समर्थन वापस लेने वाले दो निर्दलीय विधायकों ने इस अनुरोध के साथ उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाने का फैसला किया है कि राज्य विधानसभा में तत्काल ही शक्ति परीक्षण कराया जाने का निर्देश दिये जाये। यह जानकारी उनके वकील ने दी।

वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने कहा कि निर्दलीय विधायकों आर शंकर और एच नागेश ने अपनी अर्जी में एच डी कुमारस्वामी सरकार को यह निर्देश देने का अनुरोध किया है कि वह 22 जुलाई को शाम पांच बजे या उसके पहले शक्ति परीक्षण करे।