चंडीगढ़ : कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की राजनीतिक पारी पर अब तमाम सवाल खड़े हो रहे हैं। विरोधी एक तरफ उनका राजनीतिक करियर खत्म होने के बात कह रहे हैं तो दूसरी तरफ कांग्रेस को उम्मीद है कि सिद्धू पार्टी के साथ जुड़े रहेंगे।

पंजाब सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच हुए विवाद ने राज्य में भाजपा को एक मुद्दा दे दिया है। भाजपा ने शनिवार को कहा कि पंजाब के कैबिनेट मंत्री के पद से नवजोत सिंह सिद्घू का इस्तीफा स्वीकार होना उनके राजनीतिक करियर का अंत है।

भाजपा के राष्ट्रीय सचिव तरुण चुग ने कहा, "सिद्धू का पंजाब की राजनीति में अब कोई भविष्य नहीं हैं। उनका राजनीति करियर समाप्त हो गया है।''

कांग्रेस को दिया धोखा

उन्होंने कांग्रेस नेता की आलोचना करते हुए कहा कि सिद्घू ने पहले भाजपा को ‘‘धोखा'' दिया था और अब उन्होंने काम नहीं करके कांग्रेस को ‘‘धोखा'' दिया है।'' पंजाब भाजपा प्रमुख एस मलिक ने भी सिद्धू की आलोचना करते हुए उन्हें ‘‘स्वार्थी'' व्यक्ति बताया ‘‘जो केवल अपने बारे में सोचता है।''

सिद्धू का अगला कदम अनिश्चिताओं से भरा

अमरिंदर सिंह द्वारा नवजोत सिंह सिद्धू का राज्य मंत्रिमंडल से इस्तीफा स्वीकार किए जाने के बाद उनके भविष्य पर प्रश्न खड़े हो गए हैं, लेकिन नेताओं को उम्मीद है कि वह पार्टी में बने रहेंगे।

सिद्घू का अगला कदम क्या होगा, इसे लेकर रहस्य बना हुआ है क्योंकि 14 जुलाई को ट्विटर पर अपना इस्तीफा सार्वजनिक करने के बाद से उन्होंने इस बारे में कुछ भी नहीं कहा है। इसके एक दिन बाद उन्होंने अपना इस्तीफ मुख्यमंत्री को भेज दिया था। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री 17 जुलाई को दिल्ली से लौटने के बाद से अस्वस्थ चल रहे थे। उन्होंने शनिवार की सुबह इस्तीफा देखा और उसे स्वीकार कर लिया।

यह भी पढ़ें :

पंजाब की सड़कों पर लगे सिद्धू के पोस्टर , पूछा कब छोड़ रहे राजनीति

प्रियंका गांधी का दखल भी नहीं आया काम, कैप्‍टन ने सिद्धू का इस्‍तीफा किया मंजूर

सिद्धू का फैसला एक ‘भूल’

पंजाब कांग्रेस नेताओं ने कैबिनेट छोड़ने के सिद्धू के फैसले को ‘भूल' बताया लेकिन उन्होंने उम्मीद जताई कि सिद्घू कांग्रेस में बने रहेंगे। कांग्रेस के पंजाब इकाई के नेता एवं विधायक राज कुमार वेर्का ने कहा,‘‘सिद्धू साहब ने अपनी इच्छा से इस्तीफा दिया है। मुख्यमंत्री चाहते थे कि वह अपनी जिम्मेदारी संभाल ले और ऊर्जा मंत्री के तौर पर काम करें। उन्हें निकाला (कैबिनेट से) नहीं गया, उन्होंने अपनी मर्जी से इस्तीफा दिया है।''