नई दिल्ली : वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के सांसद मिथुन रेड्डी ने एक बार फिर लोकसभा में आंध्र प्रदेश के लिए विशेष दर्जे की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने गुरुवार को लोकसभा में विशेष दर्जे की आवाज को बुलंद किया। उन्होंने केंद्र के रवैये पर सवाल उठाया कि आंध्र प्रदेश के लिए विशेष दर्जा के जरूरत होने के बावजूद केंद्र अपने आश्वासन को पूरा क्यों नहीं कर रही है?

सांसद मिथुन रेड्डी ने याद दिलाया कि राज्य में बेरोजगारी बढ़ी है और बीते 5 वर्ष से आंध्र प्रदेश को कोई वित्तीय लाभ नहीं मिला है। आंध्र प्रदेश राज्य विभाजन अधिनियम के तहत केंद्र अपने आश्वासनों को पूरा करने की सांसद ने मांग की है। उन्होंने आलोचना करते हुये कहा कि कडपा स्टील प्लांट को लेकर केंद्र ने बजट में कोई जिक्र नहीं किया।

वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के सांसद ने कहा कि आंध्र प्रदेश का 60,000 करोड़ रुपये राजस्व घाटा है। उन्होंने सवाल किया कि आधारभूत संरचना के बिना राज्य विकास की राह पर आगे कैसे बढ़ सकता है? सब्सिडी में भारी कमी के कारण राज्य में उद्योग स्थापना के लिए कोई आगे नहीं आ रहा है। पिछले दो साल से पिछड़े जिलों के लिए निधि जारी नहीं की गई।

इसे भी पढ़ें :

BC आरक्षण बिल पर मतदान से इनकार करने पर विजयसाई रेड्डी ने किया वॉक आउट

अब ये होगा आंध्र प्रदेश का नया राजभवन, नए राज्यपाल के लिए हो रही तैयारी

सांसद ने कहा कि राज्य में स्टील प्लांट, दुगराजपटनम बंदरगाह और औद्योगिक कारिडोर के अलावा पोलावरम परियोजना की पूरी लागत केंद्र को वहन करनी चाहिए।